Thursday, February 11, 2016

प्रांतीय कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर २०१६

Prant Karyakarata Prashikshan Shibir 2016प्रांतीय कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर 18 जनवरी 2016 से 24 जनवरी २०१६ तक बिहार के पवित्र व् ऐतिहासिकनगरी राजगीर के कैलाश आश्रम में संपन्न हुआ। शिविर का शुभारम्भ 18 जनवरी की शाम भजन संध्या से किया गया।
शिविर में प्रतिदिन सुबह 4;30 जागरण से लेकर रात 10 बजे तक विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया। शिविर में राष्ट्र भक्त सन्यासी स्वामी विवेकानंद, मनुष्य निर्माण से राष्ट्र पुनरुत्थान, राष्ट्र के समक्ष चुनौतियाँ, अनुशासन, आज्ञापालन और दिनचर्या, केंद्र कार्य की आवश्यकता, संपर्क तंत्र और मंत्र आदि विषयो पर मार्गदर्शन श्री मुकेश कीर (प्रान्त संगठक ), श्री मोहन जी (क्षेत्र कार्यवाह) श्री दयाशंकर पाण्डेय जी (प्रान्त पर्व प्रमुख) श्री विजय वर्मा (प्रान्त संपर्क प्रमुख) और श्री धर्मदास (नगर संगठक, पटना) आदि कार्यकर्ताओं द्वारा मार्गदर्शन किया गया।
शिविर के नैपुण्य वर्ग में हमारे उत्सव, कार्यालयीन व्यवस्था, बैठक, सेवा प्रकल्प और नगर रचना को व्यवस्थित रूप से समझाया गया। शिविर में मुख्य बात यह रही की कैलाश आश्रम के अध्यक्ष स्वामी बलनानन्द जी द्वारा प्रेरणा से पुनरुत्थान में 5 दिन तक शंकराचार्य के जीवन पर प्रकाश डाला गया। शिविर में एक दिन कार्यकर्ताओ को वहां के ऐतिहासिक कुण्ड में स्नान के लिए ले जाया गया। उस कुण्ड के बारे में कहा जाता है की उसमे नहाने से शरीर की सारी व्याधियां व पाप नष्ट होते हैं। शिविर में कुल उपस्थिति 29 रही और 6 कार्यकर्ता सञ्चालन टीम में रहे।  प्रान्त व्यस्था प्रमुख श्री सत्येन्द्र कुमार शर्मा जी मुख्य रूप से उपस्थित रहे। शिविर के सफल सञ्चालन में प्रान्त के सभी कार्यकर्ताओं की अहम् भूमिका रही।

Tuesday, February 9, 2016

Young Arunachalee VKVens scientists shine at Taiwan International Science Fair

Young-Arunachalee-scientistsITANAGAR, Feb 07: Four girl students from Arunachal have secured the 3rd position at the Taiwan International Science Fair, which was held from Jan 24-29 at Taipei.
VKV Nirjuli students Lishank Tasar (Class VII) and Tadar Parte (Class VIII), presented a “Study on Traditional Hous
e Architecture in Itanagar Capital Complex and to improve climatic responsive contemporary house” while VKV Jirdin Aalo students, Toyir Kamgo and Zarnie Lollen, (both class VIII students), made their presentation on “Impact of firewood collection on weather & Climate of Jirdin village, Aalo”.
The four were awarded medal, citations and cash prize of 3200 dollars.
153 projects were presented in the event which saw the participation of 513 young scientists from 22 countries.
The selection process was a tedious one with scrutiny of projects at districts and then at the state Level by State Council for Science and Technology, Department of Science and Technology and finally at National Children Science Congress held at Bangalore and Chandigarh, sponsored by the Ministry of Science and Technology, Government of India.
The students were under the guidance of Director cum Member Secretary State Council for Science and Technology, Department of Science and Technology, Er.Tanya Ronya and State Coordinator, Children Science Congress Dr Debojit Mahanta.
Ronya has congratulated the students for the stupendous performance and thanked Chief Secretary Ramesh Negi for his interest in the innovation and Science activities relevant to the need of the state.

ग्वालियर में माननीय एकनाथजी रानडे कबड्डी महोत्सव संपन्न

Kabbadicompitation-MEJSP-2016ग्वालियर , विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी की ग्वालियर शाखा द्वारा स्थानीय जोश एको एडवेंचर स्पोर्ट क्लब ग्वालियर के सहयोग से माननीय एकनाथजी की जन्मशती पर्व समापन के उपलक्ष में उनके प्रिय खेल कबड्डी का महोत्सव के रूप में आयोजन किया गया जिसमे विद्यालय स्तर की कुल २२ टीमों से संपर्क किया।
उनमे से १५ टीमों ने भाग लिया शेष टीमों के विद्यालयों में प्री-बोर्ड परिक्षण प्रारम्भ होने से सहभागी नहीं हो सकी. महोत्सव का उद्घाटन विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण ग्वालियर के अध्यक्ष श्री राकेश जादोन के मुख्या आतिथ्य एवं नागरिक सहकारी बैंक ग्वालियर के कोषाध्यक्ष श्री विनोद सूरी की अध्यक्षता में हुआ। महोत्सव की प्रस्तावना रखते हुए केंद्र के प्रान्त प्रमुख श्री भंवरसिंह राजपूत ने माननीय एकनाथ जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि एकनाथजी ने छात्र जीवन से ही खेलो के द्वारा अपना शरीर,मन और बुद्धि का विकास किया। संघ की शाखाओ में भी ने स्वयंसेवकों को इस ओऱ प्रेरित करते थे। उन्होंने कहा कि ने देश की राष्ट्रिय धरोहर के रूप में एक कुशल संगठक का परीचाय देते हुए स्वामी विवेकानंद की कन्याकुमारी में समुद्र के बीच शिला स्मारक निर्मित कराया। श्री राजपूत ने बताया कि एकनाथजी की जन्म शताब्दी जिस प्रकार हमने एक पर्व के रूप में आयोजित की उसीप्रकार कबड्डी को भी हमने एक महोत्सव के रूप में आयोजित करने का निर्णय लिया है। वैसे भी प्रतियोगिता का भाव दो प्रतिद्वंदियों में नकारात्मक विचार उत्पन्न करता है जबकि उत्सव में हमारे विचार सदैव सौहार्दपूर्ण तथा सकारात्मक होते हैं। इसलिए हम इसे उत्सव के रूप में लेकर सभी खिलाडी इस मैदान पर खेल भावना से खेलेंगे और एकनाथजी के संगठनात्मक विचारो का स्मरण करते रहेंगे।
मुख्या अतिथि श्री राकेश जादोन ने केन्द्र द्वारा आयोजित कबड्डी महोत्सव की सराहना करते हुए कहा की हमारे देश का युवा भारत के परम्परागत खेलो से विमुख सा होता दिखाई दे रहा है लेकिन आज कबड्डी के खेल को एक उत्सव के रूप में आयोजित करना वास्तव में युवा पीढ़ी को अपनी पहिचार को पुनर्स्थापित करना है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर वास्तव में यह प्राथन प्रयास है लेकिन आगे भी इसे स्थापित करने के लिए प्रत्येक युवा को आगे आकर इस प्रकार के खेलो को बढ़ावा देना चाहिए और उत्साह के साथ सहभागी होना चाहिए। भारतीय सभी खेल खर्चीले काम और शरीर मन बुद्धि के तीब्र विकास के लिए बहुत उपयोगी हैं। श्री जादोन ने अगले वर्ष इस खेल को बढ़वा देने के लिए बृहद अपेक्षित सहयोग का आश्वासन देकर खिलाडियों का उत्साहवर्धन किया।
कबड्डी महोत्सव दिनांक 01 फरवरी से 03 फरवरी तक भारतीय बिद्या निकेतन शिवपुरी लिंक रोड ग्वालियर पर आयोजित किया गया जिसका समापन नगर निगम के महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर जी द्वारा किया गया। विजेता टीम को 5000 रुपये का नगद पुरुष्कार स्मृति चिन्ह व् सभी को मेडल प्रदान किये गए। इसीप्रकार उपविजेता टीम को 3000 रुपये नगद स्मृति चिन्ह मेडल तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली टीम को 1100 रुपये नगद मेडल दिए गए साथ ही सभी सहभागी खिलाडियों को टी-शर्ट ओ प्रमाण पत्र दिए गए। समापन अवसर पर महापौर ने खिलाड़ियों का फाइनल मैच देखा और उन्हें सम्बोधित करते हुए कहा कि आज नेतृत्व कर रहे श्री मोदी जी कबड्डी खेलते खेलते यहाँ तक पहुंचे हैं इनके पूर्व भी मन.अटल जी ने भी इसी ग्वालियर की धरती पर कबड्डी खेली है जो हमारे लिए गौरव की बात है। हम अपने महापुरूषों से किसी न किसी रूप में प्रेरणा प्राप्त कर सकते हैं। आवश्यकता है तो केवल इक्षाशक्ति की। इसलिए हमें अपनी इक्षाशक्ति को दृढ़ता प्रदान करनी है तभी हम अपने जीवन की वास्तविक सफलता को प्राप्त कर सकते हैं। समापन अवसर पर केंद्र की प्रान्त संगठक मान. शीतल दीदी भारतीय विद्या निकेतन के संचालक श्री गौतम भागचंदानी जी ,विभाग संचालक डॉक्टर चंद्रकांत मोघे जी , सह नगर संचालक श्री विजय गुप्ता जी, विभाग पर्व प्रमुख श्री नितिन मांगलिक जी, नगर पर्व प्रमुख तथा कबड्डी महोत्सव के संयोजक श्री राधाकिशन खेतान जी जोश एक एडवेंचर क्लब के सचिव श्री रवि रावत जी ने भी तीनो दिन उपस्थित रहकर खिलाडियों का उत्साहवर्धन किया।

From Development with a human face to the Adwait of “Man and Nature”

This month’s newsletter brings you the beautiful signage which we have erected on the highway as part of ‘Green Rameshwaram’ project. The signage conveys the core principle of the ‘Green Rameshwaram’ project such as Development with a human face, planting and caring of trees etc.
In our happenings section, we have various training programmes on Farming practices, Cost effective construction technologies, Holistic health, Renewable energy sources etc. In the ‘Green Rameshwaram’ project, we have highlighted different aspects such as appreciation of our work by the Dist. Administration, New garbage bins welcoming the pilgrims, Rangoli competition for creating the awareness and a new initiative of giving a facelift to the Ratha veethis by colouring the old houses.
In the wisdom section, we have Shri.Makarand Paranjape ridicules the so-called scientists and their Ostrich type mentality. Winin Pereira, journalist with Jeremy Seabrook, Nuclear physicist explains beautifully the difference between Wisdom and Science while Ilya Prigogine, Physical chemist and Nobel Laureate with Philosopher Isabelle Stengers brings out the Adwait of “Man and Nature”.
You can download and read our newsletter here.

स्थानिक कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर, नागपुर

Sthanik Karyakarta Prashikshan Shivirनागपुर के अमरावती रोड स्थित नारायण नगर में स्थानिक कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर दिनांक 30 और 31 जनवरी, 2016 इस कालावधि में हुआ। शिविर की शुरुवात दिनांक 30 जनवरी को सुबह 11 बजे प्रार्थना से हुई। 4 विस्तारों से 28 
कार्यकर्ताओं ने इस शिविर में सहभाग लिया।
शिविर की जानकारी तथा परिचय के पश्चात राष्ट्रभक्त स्वामी विवेकनन्द इस बौद्धिक सत्र के साथ शिविर का क्रम आगे बढ़ा। माननीय एकनाथजी तथा शिलास्मारक, प्रार्थना, कार्यकर्ता और अनुशासन इन विषयों पर भी बौद्धिक सत्र हुए। व्यवहार में राष्ट्रभक्ति तथा केन्द्र प्रार्थना इन विषयों पर मंथन हुआ। दोपहर के अभ्यास सत्र में भजन और देशभक्ति गीतों के साथ कार्यपद्धति, कार्यपत्रक, कार्यक्रम तथा उत्सव इन विषयों पर अभ्यास हुआ। सायं. खेल सत्र के पश्चात भजन संध्या का आयोजन नारायण नगर स्थित शिव मंदिर में किया गया था। 'प्रेरणा से पुनरुत्थान' में संगठन यह विषय सूत्र बांधते हुए मा. विश्वासजी ने प्रेरणादायी प्रसंगों को मध्य रखकर वैचारिक आदान प्रदान किया।
कार्यकर्ता के जीवन में भारत मा का कार्य सतत रूप से करने का संकल्प अत्यंत महत्वपूर्ण है ऐसा प्रतिपादन महाराष्ट्र तथा गोवा प्रान्त संगठक मा. विश्वासजी लपालकर ने समापन सत्र में किया। इस सत्र में विदर्भ विभाग प्रमुख श्री आनंदजी बगड़िया उपस्थित थे।
लखेश्वर चंद्रवंशी, शोभाताई पितले, गौरीताई खेर, क्षमाताई दाभोलकर इन कार्यकर्ताओं ने शिविरार्थियों को मार्गदर्शन किया। शिविर प्रमुख का दायित्व गौरीताई खेर और सहशिविर प्रमुख का दायित्व क्षमाताई दाभोलकर ने निभाया।

One day youth workshop in Bilashpur

One Day Youth WorkshopOne day youth workshop was organized on the birthday of Swami Vivekananda, 31st  January (According to Hindu Calender) by Vivekananda Kendra Bilaspur.
120 selected students participated in the workshop from various collages (63 brothers+ 42 Sisters+ 15 organizing team) Guru Gasidas Central University, PGBT Clg, D.P. Vipra Clg, Science Clg, Diet Pendra, kota Clg etc.). Workshop was started with vadic prayers followed by interactive session on various subjects.

रायपुर में सामूहिक सूर्य नमस्कार

Samuhik Suryanamaskaarविवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी ,शाखा -रायपुर द्वारा आज दिनांक 31 जनवरी 2016 को दीनदयाल उपाद्ध्याय नगर सेक्टर -4 स्थित पासपोर्ट ऑफिस के पास दुर्गा गार्डेन,में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया।
इस सामूहिक सूर्य नमस्कार में दीनदयाल उपाद्ध्याय नगर के कुल १३० वरिष्ट नागरिको एवं बच्चो ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में योग के विभिन्न आसनों का प्रदर्शन बच्चों द्वारा किया गया। तथा बच्चों ने एक साथ सामूहिक सूर्य नमस्कार किया। कार्यक्रम में रा.स्वयं सेवक संघ के नगर प्रचारक श्री यज्ञ सिंह ने माग्दर्शन किया । उन्होंने स्वामी विवेकानन्द का कथन दोहराया कि वह ऐसे युवा चाहते थे जिनकी लोहे की मसपेसियाँ हो,फौलाद के स्नायु हो तथा वज्र जैसा मन वस् करता हो । विवेकानन्द केन्द्र के कार्यकर्ता श्री सुभाष चन्द्राकर जी ने भारत भ्रमण के दौरान बंदरो से सामना करने की कहानी सुनाकर कठिन परिस्थितियों से लड़ने की प्रेरणा दी । अंत में दीनदयाल उपाद्ध्याय नगर वार्ड की पार्षद श्रीमती मीनल चौबे का मार्गदर्शन मिला, उन्होंने बच्चो को शारीरिक श्रम एवं व्यायाम के माध्यम से शारीरिक, मानसिक, बौध्हिक एवं अध्यात्मिक रूप से संपन्न होने की प्रेरणा दी।