Wednesday, October 22, 2014

Universal Brotherhood Day celebrated at Kangra


Kangra : September 11-  The self transformation among all sections of the society, particularly among the youth, was need of the hour in order to see a  transformed society grows in days to come and the cherished dream Swami Vivekananda is fulfilled to have an ideal India.

Prof. Yoginder S Verma Vice Chancellor Central University Himachal Pradesh  said this while addressing a well attended gathering of youths  and intellectuals in the auditorium of the local polytechnic on the occasion of 'Universal Brotherhood day'  today  organized by local branch Vivekananda Kendra Kanya Kumari  to commemorate the historical speech delivered by Swami Vivekananda in the world religious conference on September 11, 1893.Prof. Verma was speaking as Chief guest on this occasion.

He  said that the teachings of Swami Vivekananda were more relevant today than when he addressed the World Religious conference on this day in 1893 at Chicago when Swami ji gave call for ' Universal Brotherhood'.

He said that Swami Ji had been clear  that one should  think positively about every things that would help society to grow positively which was need of the hour. He stressed on the youth to infuse in them the strength of the teaching of   ‘Nishkam Karmyoga’ of Bagwat Geeta  and should come forward to help the needy and down trodden which  would help them in their
transformation.

Swami Gangeshanand Acharya of Chinmaynand Mission  who Presided over the function  said that youth should make  Swami Vivekananda their icon to lead an ideal life. He stressed on the youth to follow  Swami Vivekananda’s teachings  which would keep them close to their cultural roots and religion too which was need of the hour.

Dr. Parveen Kumar Sharma, Principal Dronacharya College of Education Rait who was guest of honour narrated different incidents of swami ji’s  life to bring youth close to his life and teachings.Parveen Kumar Sharma has done his Ph.D on the life and teachings of Swami Vivekananda.
Ashok Raina  of Vivekananda Kendra  Kangra   in his welcome  address stressed on adopting the path of righteousness shown by Swami Vivekananda to have better tomorrow for India. He stressed on the self transformation among the youths to see the dream of Swami Vivekananda  of a prosperous India  in right perspective comes true.

A declamation  contest was organized on this occasion in which  five colleges participated  and Rakesh Kumar of Dronacharya college of education Rait got first position, Kartik of Govt. Polytechnic  Kangra bagged the second position and Satish Kumar of Rajeev Gandhi Govt. Engineering college Nagrota Bagwan  got the third prize. Students of DRP Govt. Medical College Tanda and NIFT Kangra also participated.

Nearly fifty Bhramcharies of Chinmamyanand  Mission also attended three and half hour program which started at 11.00 am and concluded at 2.30 pm and after the program all were served a cup of tea. Lunch was arranged for the Mission Brahmcharies besides their transportation Winners were given prizes by Prof. YS Verma. Dr. Ghautam Vetith, Prof. Neelam Mahajan  and Dr. YK Dogra Judges of the declamation contest too were honoured by the Chief Guest.

Hoshiyar Singh  102 year old Indian National Army Freedom fighter and associate of Neta Ji Subhash Chander Bose resident of Bara Village of this district, who foot the distance of 6000 kms from Rangoon to the Layshi before he was arrested and jailed.

He was sentenced to death but later it was converted to life imprisonment. A standing ovation was given the audiance in  jam packed hall amid clapping to the freedom fighter.

Hoshiyar Singh on Behalf of Kendra honoured the three guests.A Bajan was sung by Sunil Ji on this occasion left the audience spellbound. The program was started with lighting of the Chief Guest and other guests followed by Vedic Chanting by Brahmcharies of Chinmayanand Mision.
A sales counter was set up where books and novelties  were sold. E.O.M

सामाजिक नेतृत्वाच्या जीवनात सार्थकता असावी


Vivekananda Kendra, Branch Satara had arranged Manthan Programme, 9th September 2014 on Social leadership - "सामाजिक नेतृत्व - सार्थकता".  Ma. Nivediata Tai was the chief speaker and the topic was followed by question-answer session. 
सातारा : 'समाजाला नेतृत्व देणारी व्यक्ती केवळ यशस्वी असून, चालत नाही तर तिला तिच्या जीवनामध्ये सार्थकता असायला हवी,' असे विचार विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारीच्या अखिल भारतीय उपाध्यक्षा निवेदिता भिडे यांनी मांडले. विवेकानंद केंद्राच्या सातारा कार्यस्थान तर्फे आयोजित जैन सांस्कृतिक केंद्र सातारा येथील मंथन कार्यक्रमात त्या बोलत होत्या.

निवेदिता भिडे म्हणाल्या, 'स्वामी विवेकानंद म्हणतात, सत्याला अनुसरूनच समाजाने बदलले पाहिजे. समाजाला अनुसरून अस्तित्वाचे सत्य बदलत नाही. आज आपल्या पूर्ण अस्तित्वाचे सत्य विज्ञानानेही मांडण्यास सुरू केले आहे. हे जे पूर्ण विश्‍व आहे, अस्तित्व आहे, ते दिसायला जरी वेगवेगळे असले तरी आपल्या सर्वांचे जीवन एकमेकांशी परस्पर जोडलेले, परस्परपूरक आणि परस्परावलंबी आहे. आपल्या यशामध्ये सुखामध्ये परिवाराचे सुख समाजाची एकात्मता पाहिजे. त्यातून राष्ट्र सर्मथ व्हायला हवा, पूर्ण मानवतेचं कल्याण पाहिजे आणि सृष्टीचे संरक्षण व्हावे. समाज नेतृत्वाच्या आचारांचे अनुसरण करतो.'

सी. व्ही. दोशी यांनी विवेकानंदांच्या विज्ञान, व्यापार, उद्योग विचारांचे पैलू सांगून विवेकानंद शिलास्मारकच्या स्थापनेमध्ये सातारकरांच्या सहभागाचा उल्लेख केला. 'मंथन' विषयामध्ये उद्योजक युवराज पवार, जे. एस. पाटील, सुनील पाटणे, वसंतराव फडतरे आदींचा सहभाग होता. कार्यक्रमास विलास कवचाळे, शिक्षक बँकेचे अध्यक्ष विठ्ठल माने, सुभाष दोशी, रमेश आगाशे, प्रमोद शिंदे आदींसह विविध क्षेत्रांतील मान्यवर उपस्थित होते. ज्योती हेरकळ यांनी सूत्रसंचालन केले. अनिल गोहाड यांनी आभार मानले. (प्रतिनिधी)

From Solar Smiles to Pond of Nectar


As part of the 'Green Rameshwaram' project we have been able to bring smiles and light into the hamlets of Danushkodi with solar power installations. Sponsored by BrahMos Aerospace the project has not only lighted up the individual houses of the hamlet but also the community commons including the panchayat school and street lights in the area. The renewable energy installations is a short in the arm of the Green Rameshwaram project. Along with this we have also conducted a meeting of the special interest groups with the District Collector Sri.Nanthakumar IAS. The meeting was fruitful with a lot of suggestions and feed-back. A tribal products store has been opened at Rameshwaram at the Vivekananda Kendra premises. All these developments along with our work on sanitation can be read in this month newsletter.

The highlight however is the 'Dharmar Teertham;. After having located and identified theDharmar Teertham, now we have identified fresh water inside the almost intact structure buried inside the sand dunes for almost a century now. The find of fresh water inside the sand dune covered Teertham hit the headlines in a sensational manner. A flood of newspaper reports followed. Pilgrims as well as local residents visited the Teertham and the renovation work is going on in full-swing.

In our publication section, eco-toons from Samagra Vikas we provide the basic concept of Ayurveda and how it actually co-created health and provides wholesome health. The role of mind-body continuum is underlined and the coordination of various dimensions of the well being is also brought out. In the 'Happenings' different college training programmes in Green technologies have been highlighted. In the wisdom section we look at the connection of nature and mysticism, that of nature with the development of the child and also connection of nature with Dharma - are brought out.

Universal Brotherhood Day Celebration at Hydrabad

Over 250 enthusiastic audience including winning students from 19 Colleges of Hyderabad and well wishers of Vivekananda Kendra celebrated the 122nd Universal Brotherhood Day at the Community Bhavan in Nagole, Hyderabad. The key note speaker Prof. Nageswara Singh of V V School of  Business Management recalled Swami Vivekananda's life and message with special thrust on inclusiveness. Justice C. V. Ramulu, Prant Sanchalak of VK Telangana & Andhra also graced the occassion. The prizes were then given away to the toppers and high scoring college students who had appeared in the Exam conducted on the book -"Eknathji -Man with Capital M." The program was attended by a good number of local residents of Nagole. 

इंदौर में सफल युवा युवा भारत का उद्घाटन


११ सितम्बर स्वामी विवेकानंद का विश्व बंधुत्व दिवस (शिकागो व्याख्यान) विवेकानंद केंद्र द्वारा प्रति वर्ष  मनाया जाता है | इस वर्ष विवेकानंद केंद्र के संस्थापक मा. एकनाथजी रानडे इनका १०० वा जन्म दिवस १९ नवम्बर २०१४ से प्रारंभ होने जा रहा है, इस पर्व को केंद्र मा. एकनाथजी जन्म शती पर्व के नाम से मना रहा है | अतः  इस अवसर पर पुरे देश में केंद्र युवाओं के बिच महाविद्यालयों में “सफल युवा युवा भारत” इस अभियान के तहत संकल्प और सफलता यह विषय कथा विवेकानंद शिला स्मारक के माध्यम से पहुचायेंगा |

कार्यक्रम में “सफल युवा युवा भारत” पुस्तक का विमोचन विवेकानंद केंद्र के मध्य प्रान्त संचालक श्री मनोहर  देव व मुख्य अतिथि डॉ सुब्रतो गुहा जी के हस्ते किया गया | डॉ सुब्रतो गुहा जी अपने उद्बोध में स्वामी विवेकानंद के विचारों पर प्रकाश डालते हुए बताया की स्वामी विवेकानंद ने पश्चिम में मुख्य रूप से 4 बिन्दुओं पर विचार प्रकट किए थे जो की आज की मूल आवश्यकत बन गयी है |

१.विज्ञान के कुठाराघात का सामना, 

२. भौतिक वाद का सामना, 

३. नीतिओं की समस्या को सुलझाना, 

4.धार्मिक अपवर्जित एवं विवादस्पद विचारों को रोकना |

नरेन्द्र से विवेकानंद का प्रवास याने मानव से महामानव का प्रवास है |
स्वामीजी हिन्दू धर्म के प्रतिनिधि करने शिकागो गए थे क्यों की व विश्व धर्म सम्मलेन था |
सबसे बड़ा ऐश्वर्य यह भारत के पास में है और वह है आध्यात्मिकता |

भौतिक रूप से स्वामीजी का निधन हुआ है परन्तु वे आज और आने वाले दिनों में भी साथ रहेंगे |

स्वामीजी का विचार यह भौगोलिक सीमाओं तक सिमिति नहीं हो सकता व तो विश्व के व मानव जाती के कल्यांण के है |
भारत ने कभी भी अन्य भूमि पर राज्य नहीं किया तो वह हमेशा से लोगों के रुदय जितने का काम करता रहा है |
स्वामीजी ने कहा की गर्व से कहो हम हिन्दू है आज इसके सन्दर्भ को समजने कि आवश्यकता है और वह है की जो व्यक्ति अपने धर्म पर गर्व करता है उसे कोई गुलाम नहीं बना सकता |आज स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात कर अपने जीवन में उतारने की आवश्यकता है और परिवार से यह सहज संभव होता है, दूसरा स्वामी स्वयं युवा थे और उनकी अधिक अपेक्षा युवाओं से थी अतः सफल युवा युवा भारत इस अभियान के अंतर्गत युवाओं ने जुड़कर राष्ट्र के निर्माण में अपना योगदान देना है | श्री मनोहर देव जी ने विवेकानंद केंद्र का परिचय देकर केंद्र से जुड़कर राष्ट्र की सेवा करने का आवाहन किया | विवेकानंद केंद्र के नगर प्रमुख श्रीमती सुनयना बुग्दे ने मा. एकनाथजी जन्म शती पर्व की योजना बताई | कार्यक्रम का संचलन कु. रश्मि दीदी ने किया | विवेकानंद केंद्र का परिचय पि.पि.टी. द्वार डॉ. रविजी ने दिया |

कोटा में सफल युवा युवा भारत का आयोजन


कोटा। आज यहाँ कोटा नगर के विभिन्न महाविद्यालयों में विवेकानन्द केन्द्र, कन्याकुमारी की कोटा शाखा ने ‘‘सफल युवा युवा भारत’’ लिखित प्रतियोगिता आयोजित की गई। कोटा ईकाई के प्रवक्ता श्री दीपक शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रत्येक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी राजकीय महाविद्यालय, राजकीय वाणिज्य महाविद्यालय, राजकीय पाॅलिटेक्निक महाविद्यालय एवं रंगबाड़ी क्षेत्र में संस्कार होस्टल व कोचिंग में एक साथ यह प्रतियोगिता आयोजित की गई। इस बार की प्रतियोगिता का मुख्य विषय महानायक माननीय एकनाथ जी रानाडे का जीवन और विवेकानन्द शीला स्मारन कन्याकुमारी निर्माण और सम्बन्धित घटनाएँ व व्यक्ति रखा गया था।

प्रतियोगिता के मुख्य संयोजन श्री संजीव जरेडा ने बताया कि राजकीय महाविद्यालय में 90, राजकीय वाणिज्य महाविद्यालय में 20, राजकीय पाॅलिटेक्निक महाविद्यालय में 50 और संस्कार होस्टल कोचिंग से 60 युवक-युवतियों ने प्रतियोगिता में भाग लिया। कोटा ईकाई के संयोजक श्री अमित कुमार ने सभी कार्यकर्ताओं को व सभी महाविद्यालय व काचिंग प्रशासन में प्रतियोगिता आयोजन में सहयोग के लिये धन्यवाद प्रेषित किया व बताया कि यह प्रथम चरण था व द्वितीय चरण, राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय में अगले सप्ताह आयोजित होगा।

चरित्र निर्माण एवं त्यागवृत्ति से ही विश्वबंधुत्व संभव


स्वामी विवेकानन्द के शिकागो धर्मसम्मेलन में प्रथम उद्बोधन की वर्षगांठ पर विश्वबंधुत्व दिवस का अजमेर में आयोजन किया गया। विश्वबंधुत्व की संकल्पना को केवल चरित्र की उच्चता एवं त्यागवृत्ति के आचरण से ही साकार किया जा सकता है। भोगवाद से केवल विनाश ही हो सकता है तथा कट्टरता से संसार में बंधुत्व नहीं आ सकता। स्वामी विवेकानन्द ने जिस सत्यकालजयी संदेश का दर्शन पूज्य श्रीपाद शिला पर किया उसी दर्शन को विश्व के समक्ष 11 सितंबर 1893 में अमेरिका में शिकागो शहर में विश्व रिलीजन सम्मेलन में अपने मुखारविंद से अभिव्यक्त किया तथा यह घोषणा भी की कि यदि इस सत्य के दर्शन की उपेक्षा करके यदि विश्व में एकांतिक विचारधारा का सूत्रपात जारी रहेगा तो इस विश्व में विनाश की लीला को कोई नहीं रोक पाएगा और यह एक विडंबना ही है कि जिस 11 सितंबर 1893 को स्वामीजी ने उक्त विचारों को अमेरिका की धरती पर कहा था वही अमेरिका की धरती 11 सितंबर 2001 को ही आतंक की उस एकांतिक विचारधारा के परिणिति स्वरुप लहूलुहान हुई।  उक्त विचार प्रमुख शिक्षाविद्, चिंतक एवं लेखक हनुमानसिंह राठौड़ ने व्यक्त किए। वे विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर द्वारा आयोजित समर्थ भारत - विश्वबंधुत्व का आधार विषय पर मुख्य वक्ता के रूप  में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि विश्व में जिन दो विचारधाराओं में टकराव हो रहा है वह विचारधाराएं शूपर्णखा और पूतना का प्रतिरूप हैं जो केवल इस एक विचार को मानती हैं कि केवल यह ही, किंतु संपूर्ण विश्व में बंधुत्व का संदेश देने वाली एकमात्र विचारधारा हिन्दुत्व विचारधारा है जो यह मानती है कि यह भी। हिन्दू संस्कृति में नास्तिक माना जाने वाला चार्वाक दर्शन भी भौतिकतावादी तो हो सकता है किंतु आसुरीवृत्ति वाला नहीं हो सकता। यही हिन्दू दर्शन की विशेषता है जिसकी घोषणा स्वामी विवेकानन्द ने संपूर्ण विश्व के समक्ष की। उन्होंने इस बात पर बल दिया कि दर्शन चाहे जितना भी उच्च कोटि का क्यों न हो उस दर्शन को संपूर्ण विश्व में स्थापित करने के पीछे सामथ्र्य होना चाहिए जो कि आज की युवा पीढ़ी में है। आज आवश्यकता इस बात की है कि हम अपने प्रत्येक दायित्व के पीछे राष्ट्रभाव का जागरण करें जिससे कि ऐसी सामथ्र्य का निर्माण हो सके जिससे कि भारत पुनः विश्वगुरू के पर पर आसीन हो सके।

इस अवसर पर विवेकानन्द केन्द्र द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत भी किया गया जिसमें विद्यालय स्तर की चलवैजन्ती डीएवी शताब्दी विद्यालय तथा महाविद्यालय स्तर की चलवैजंती महिला अभियांत्रिकी महाविद्यालय, अजमेर को प्रदान की गई। देशभक्तिगान प्रतियोगिता में बाल वर्ग में डीएवी शताब्दी विद्यालय तथा किशोर वर्ग में डी.बी.एन. अंग्रेजी माध्यम विद्यालय ने प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजकीय महाविद्यालय, अजमेर के पूर्व उपप्राचार्य डाॅ. बी.के. भार्गव थे तथा अध्यक्षता डाॅ. बद्री प्रसाद पंचोली ने की। इस अवसर पर साहित्कार उमेश चैरसिया, नगर संचालक दिनेश अग्रवाल, नगर संगठक श्वेता भी उपस्थित रहीं।

इससे पूर्व अतिथियों का स्वागत स्वामी विवेकानन्द की पुस्तकों एवं श्रीफल से किया गया। कार्यक्रम की संकलप्ना डाॅ0 स्वतन्त्र शर्मा ने रखी तथा केन्द्र परिचय नवनीत जैन ने किया। कार्यक्रम का संचालन नगरप्रमुख कुसुम गौतम द्वारा किया गया।