Saturday, February 18, 2017

बिलासपुर में राष्ट्रिय युवा दिवस

"स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था मुझे 100 युवाओं की आवश्यकता है और आज हमारे सामने हजारों युवा हैं अब समाज में सकारात्मक परिवर्तन का उत्तम समय आ गया है; युवाओं को सही मार्ग दिखाने की आवश्यकता है मैं आज इस स्थिति में हूं इसके पीछे सही मार्गदर्शन ही है" यह उद्गार बिलासपुर कलेक्टर श्री अन्बलगन पी ने विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बिलासपुर द्वारा आयोजित स्वामी विवेकानंद जयंती पर व्यक्त किए l इस अवसर पर मंच में कलेक्टर महोदय अम्बलगन पी. ; संघ के मा. काशीनाथ गोरे, तथा विवेकानंद केंद्र के डॉ प्रतीक शर्मा, डॉ देवरस, डॉ ओम माखीजा व डॉ उल्हास वारे थे l अतिथियों को डॉ माखीजा द्वारा विवेकानंद के विचार लिखित फ्रेम से सम्मानित किया गया । संघ के काशीनाथ गोर जी ने कहा स्वामी जी अनेक लोगो के प्रेरणा स्तोत्र है जिसमे स्टील बनाने वाली टाटा कंपनी भी शामिल है l समस्त कार्यक्रम का नियोजन नगर संगठक बिलासपुर मा. कुलदीप जी द्वारा किया गया, उल्लेखनीय है कि विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी की बिलासपुर शाखा सन 2013-14 से सक्रिय है एवं विवेकानंद जयंती के अवसर पर विवेकानंद उद्यान कंपनी गार्डन में शहर के मध्य उद्घाटन कार्यक्रम का आयोजन किया गया था; जिसमें विवेकानंद केंद्र के प्रान्त सम्पर्क प्रमुख उल्हास वार जी; नगर संगठक कुलदीप जी; नगर प्रमुख गौरीशंकर जी; व्यवःथा प्रमुख भरत पखमोडे जी;विस्तार प्रमुख डॉ संजय आयदे जी तथा विवेक पांडे जी; लिडबिडे जी; नगर व्यवस्था प्रमुख आशुतोष शुक्ल आदि की प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से कार्यक्रम को सफल बनाने में विशेष सहभागिता रही l मुक्त वि.वि. के कुलसचिव राजकुमार जी; केंद्रीय वि वि के प्रो एस एस ठाकुर जी; पुजारी जी व नगर के अन्य नागरिक भी काफी संख्या मे उपस्थित रहे l उद्घाटन कार्यक्रम के अंत में कलेक्टर अम्बलग्न जी व काशीनाथ जी ने विवेकानंद केंद्र द्वारा आयोजित "चलित रथ" का उद्घाटन स्वामी विवेकानंद जी के प्रतिमा पर पुष्पार्पण करके किया । यह रथ बिलासपुर नगर में भ्रमण करते हुए कार्यक्रम स्थल पर पहुचा जिसमे उसलापुर; नेहरू चौक, तिफरा कालीमंदिर; रेलवे स्टेसन, हेमुनागर, राजकिशोर नगर, देवरीखुर्द आदि स्थानी पर गया l इसके अतिरितक स्थानीय कार्यक्रम के प्रमुख स्थान मंगला, पारिजात कॉलोनी,सरकंडा,पुराना बस स्टेण्ड,मंदिर चौक,कोनी,चौबी कालोनी, बहतराई, गुरुघासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय, साइंस कॉलेज, आईटीआई कोनी, कोनी थाना परिसर, कोटा आदि स्थानों पर पुष्पर्पण के माध्यम से मनाया गया । बिलासपुर में विवेकानंद केंद्र के नेर्तित्व में सभी छोटे बड़े कार्यक्रम कुल मिलाकर 51 से अधिक जगह विवेकानंद जयंती मनाई गयी |

पुष्पांजली ,रैली ,भाषण,प्रतियोगिता,रथ कुल 51 कार्यक्रम मनाये गये जिसमे कुल उपस्तिथि 5582 ।

1) बिलासपुर :33-2452

2) पेण्ड्रा ,गौरेला : 8-330

3) मुंगेली : 4-2050

4) पथरिया : 2-400

5) कर्गी रॉड कोटा : 3-300

6 ) रायगढ़ : 1-100

कुल कार्यक्रम :51 - 5582

* स्कुल - 17

* कॉलेज - 03

* विश्वविद्यालय - 02

* छात्रावास - 02 .

* रैली। 02

* विवेकानन्द रथ 02.

Swami Vivekananda Jayanti Celebration in Guwahati

Swami Vivekananda Jayanti was celebrated in Guwahati on 12th jan. Cycle rally and grant Shobha Yatra was organized on this occasion on different places.

Non - Residential Yoga Certificate Course in Guwahati

Vivekananda Kendra guwahati started NRYCC(Non - Residential Yoga Certificate Course)2ND BATCH, frm 16th of Feb . Venue- VK Panbazar. Time 6.00am to 7.30am.

संस्कार बिना शिक्षा अधूरी : "बनो और बनाओ" युवा नेतृत्व कार्यशाला सम्पन्न

रायपुर, फरवरी 05 : विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी, शाखा रायपुर की ओर से रविवार को युवा नेतृत्व कार्यशाला का आयोजन किया गया। यह कार्यशाला "बनो और बनाओ" इस थीम पर केन्द्रित थी। युवाओं को सम्बोधित करते हुए विवेकानन्द केन्द्र के कार्यकर्ता लखेश्वर चन्द्रवंशी ने कहा कि शिक्षा व संस्कार दोनों ही मनुष्य जीवन का आधार है। संस्कार के बिना शिक्षा अधूरी है। इसलिए समाज में शिक्षा युक्त वातावरण की निर्मिति करनी होगी। चंद्रवंशी ने आगे कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने संस्कार के लिए Be and Make (बनो और बनाओ) का सूत्र दिया है। स्वामीजी ने Be and Make कहा है, लेकिन कई बार हम इसे Be than Make समझ लेते हैं। यह ठीक नहीं। बनने और बनाने की प्रक्रिया साथ-साथ होती है। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे नगर के विभिन्न स्थलों पर संगठित होकर संस्कार वर्ग चलाएं जिससे कि बालकों के शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक विकास हो सके।

इस कार्यशाला में चपलतावर्धक, तितिक्षावर्धक, बलवर्धक व एकाग्रतावर्धक मैदानी खेल का प्रशिक्षण दिया गया। इस अवसर पर केन्द्र के नगर संगठक बलबीर कुशवाह ने वीर सावरकर व मदनलाल धींगरा के प्रेरक जीवन प्रसंग को कथाकथन के माध्यम से प्रस्तुत किया। आयोजन की सफलता के लिए देवेन्द्र नगर गर्ल्स कॉलेज की प्राध्यापिका डॉ.मनीषा गर्ग तथा स्थानीय कार्यकर्ता प्रेमानन्द साहू, नंदिनी तांडी, देवश्री साहू, अखिलेश नामदेव व नमन शुक्ला ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कार्यशाला के दौरान केन्द्र के सहनगर रूपेश अवधिया, सहव्यवस्था प्रमुख विष्णु महोबिया, नटवरलाल टाक प्रमुखता से उपस्थित थे।

Vivekananda Kendra Chinchwad celebrated Rathasaptami

Today on the eve of Rathasaptami Vivekananda Kendra Kanyakumari Br.-Chinchwad and Arogyam Yog & Therapy centre conducted a Surya namaskar Yadnya wherein around 100 people participated. We all did 108 surya namaskar's and the total team effort was of 108 surya namaskar's. 50 students from the Samrasta Gurukulam School Chinchwad had come to attend the program apart from the Arogyam yoga students. It was a very unique and wonderful experience. After the event our guest of honor Mr. Jayan Kulkarni felictated the successful student who passed the YIC- Yog instructor course from S-VYASA institute. He then spoke about importance of Surya namaskar and Samarth Ramdas Swami. He stressed upon the importance doing regular Surya namaskar which help us achieve good health both mentally and physically.