Wednesday, June 28, 2017

International Yoga Day celebration in Tinsukia

On the occasion of 3rd International Day of Yoga, Vivekananda Kendra Kanyakumari, Tinsukia Branch organized three programs in various locations of Tinsukia Township. At 8:30 A.M. the first program was organized at Women’s College, Tinsukia. The programme saw the enthusiastic participation of 185 students and lecturers of the college. The Yoga session was conducted by L. Sarita, Tinsukia Nagar Sangathak, Vivekananda Kendra. Yoga demonstrations were done by Kumari Najuki and Ravi, Anadalaya Acharyas.

The second program was organized at Manav Kalyan Prathana Bhawan, Tinsukia in collaboration with the Institute of Chartered Accountant of India (ICAI), Tinsukia branch. 150 persons including the Chartered Accountants, their family members and friends participated in the program. Sri Manish Agarwal, President of Tinsukia branch of ICAI delivered the welcome speech. Sri Gurudev Koli, Teacher, VKV, Tinsukia took the yoga session. Ma. Pravin Davolkarji, all India Joint General Secretary of Vivekananda Kendra enlightened the gathering on the topic- Yoga: the way of life.

At 12 noon the final program was organized in Tinsukia Commerce College in association with the District Administration, Tinsukia. Sri Partha Pratim Bairagi, ADC, Tinsukia was the chief guest. The Principal, Vice-Principal and many dignitaries from Tinsukia took part in that program. 250 students and lecturers of the college participated in the Yoga session taken by Sri Gurudev Koli, Teacher, VKV, Tinsukia.              

International Day of Yoga at Madurai

Madurai Celebrated International day of yoga celebrated at 4 place.

1. Madurai tvs Nagar vk Office (only brothers) total participants:11 Date:21.6.2017 Time:7.00 to 8.00am

2. Indian Oil corporations (Sisters and brothers) Totel participants:17 Date:21.6.2017 Time:8.00 to 9.00 am

3.tvs Sundaram School (sisters and brothers)7,8,9 students Total participants:60 Date:21.6.2017 Time:4.00 to 5.00pm

4.Arunachalam School (only brothers)7,8,9 students total participants:200 Date:21.6.2017 Time:4.30 to 5.30pm Vandemataram

3rd International Yoga day celebration by Vivekananda Kendra Branch-Guwahati

Along with rest of the country, the 3rd International Yoga day is celebrated in Guwahati on 21st June by Vivekananda Kendra Branch Guwahati with more than hundred devoted, enthusiastic Karyakartas. Kendra conducted the programme in 45 places of Guwahati and reach out to approximately 2200 people. The places are the Kendrastans, prime educational institutes, research institutes, Govt offices, corporate hubs, hospitals, some NGOs etc.

The event was planned for the last one month by the Yoga core team, VK Guwahati and VKIC. The training to the Karyakarta teams was given in the Saturday and Sundays of the whole month.

All the Yoga sessions are followed by a Kendra parichaya session. A good number of Kendra publications are also sold in the venues. The follow up activity will be Yoga Satra.

Some of the venues are IIT Guwahati, Gauhati University, Cotton University, TATA Institute of Social Science, Beltola College, Arya Vidyapith College, RGB College, Assam Institute of Management, NERIM, IGNOU, IIIT Guwahati, Regional Science Centre, IAAST, Archeological Survey of India, Bamunimaidan Industrial Estate, Assam Police Battalion, NRL, Railways Bamunimaidan, Reserve Bank of India, Postal Department Meghdoot Bhavan, Central Excise, BSNL, Hyaat Hospital, etc.

योग दिवस बिलासपुर में

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा बिलासपुर द्वारा विश्व योग दिवस के उपलक्ष में 21 जून 2017 को संध्या 5:30 से 7:00 बजे तक योग अभ्यास एवं परिचर्चा का आयोजन केंद्र कार्यालय शांति नगर बिलासपुर में किया गया था. जिसमें प्रन्द्रह दयित्ववान कार्यकर्ताओ की उपस्थिति रही ।

योगाभ्यास का प्रारंभ विवेकानंद केंद्र की गौरवशाली परंपरा के अनुसार 3 ओंकार एवं सहना ववतु से हुआ, प्राणायाम का अभ्यास कराया गया । इसमें विभिन्न लोगों ने भाग लिया केंद्र के वरिष्ठ कार्यकर्ता एवं विभाग संपर्क प्रमुख डॉक्टर उल्हास वारे ने योग के चार प्रकारों को बताया कर्मयोग, ज्ञान योग, भक्ति योग तथा क्रिया योग चारों प्रकार उनकी सुव्यवस्थित तथा सारगर्भित व्याख्या के उपरांत उन्होंने कहा अपने अंदर छुपी शक्तियों को उभारने के लिए इन चारो का उचित समन्वयन आवश्यक है तथा यह एक सतत चलने वाली प्रक्रिया है । व्यवस्था प्रमुख प्रभाकर लिडबिडे जी ने कहा विद्यार्थियों के लिए योग अत्यंत लाभप्रद है, इससे विद्यार्थियों की एकाग्रता पड़ती है तथा उनकी कार्य कुशलता में वृद्धि होती है इसलिए हर विद्यार्थी को एक घंटा योग अवश्य करना चाहिए । संचालक एडवोकेट प्रतीक शर्मा जी ने बताया वर्तमान में योग का प्रचलन बहुत अधिक बढ़ गया है इसका प्रमुख कारण यही है कि योग करने से सिर्फ फायदे ही होते हैं इसका कोई भी साइड इफेक्ट अथवा नुकसान नहीं है इसलिए इसकी जनसामान्य में स्वीकार्यता बढ़ गई है । विस्तार प्रमुख डॉक्टर संजय आयदे  जी ने कहां के लोग भारत की ही देन है एवं विश्व स्तर पर इसके स्वीकार्यता हमारे लिए गर्व का विषय है आज लगभग 200 देशों में योग किया गया, विदेशी न्यूज चैनल पर भी योग करते हुए लोग दिखाई थी जो कि इसकी पुष्टि करता है । विस्तार प्रमुख डॉक्टर धनंजय मिश्रा ने वृक्ष का उदाहरण देते हुए योग की महत्ता का प्रतिपादन किया तथा कहा जिस प्रकार का वृक्ष के लिए जड़ अत्यंत महत्वपूर्ण है उसी प्रकार मनुष्य के शरीर के लिए उसका मस्तिष्क में अत्यंत महत्वपूर्ण है , उन्होंने विज्ञान की भाषा में भी विभिन्न चीजों को समझाये । योग लेते समय ही व्यवस्था प्रमुख आशुतोष शुक्ल ने योग में आवश्यक सावधानी बताते हुए योग को व्याधि से समाधि की यात्रा कह कर   विभिन्न रोगों में इससे होने वाले फायदों के बारे में बताया तथा योग रोग उपचार का साधन मात्र ना होकर एक "जीवन पद्धति" होने की बात कही ।

सर्वे भवंतु सुखिन: के साथ समापन हुआ, तत्पश्चात केंद्र प्रार्थना कर के लोग अपने गंतव्य की ओर प्रस्थान किये । 

3 Days Residential Youth motivation camp at Kanyakumari

3 Days Residential Youth motivation camp is organised by Vivekananda Kendra Mysore at Kanyakumari from June 6th to June 8th. On 6th June Ma. Balakrishanji, Vice president of Vivekananda Kendra inaugurated the camp and talked about Vivekananda Rock Memorial and Ma. Eknathji. The topic Purposeful Life  by Ma. Radha Didi, Pranta Sanghatak and interacted with students. How I inspired by Swami Vivekananda by Sri Raghuji, Bangalore.  Patriotic saint Swami Vivekananda and Karma Yogini Bhagini Nivedita by Sri Vinayaka, Yuva Pramukh, Vivekananda Kendra, Mysore. Su. Kalyani Didi took song session.  On 8th June , Ma.Aparna didi, talked about Kendra and how students can associate in Kendra activities. Prayer, games , group discussion, Shramanubhava, yoga and pranayama are the other activities.All the participants visited Rock memorial, Sri Ramayana Dharshanam, Bharatamata sadhan, other exhibitions the campus. Total participants 40, teachers-3, karyakartas- 7.

Bhagavata Saptaha in VK Thiruvananthapuram

Bhagavata Saptaha was organised in VK Thiruvananthapuram from 8 June to 15 June 2017.  Mananeeya Lakshmi didi, Director Vivekananda Kendra Vedic Vision Foundation, inaugurated the Saptaha on 8 June 2017 at 9.00 am by

lighting the lamp. She also spoke on Bhagavata mahatmya. Sri Hanumanta Rao, Treasurer Vivekananda Kendra Kanyakumari, participated in the Saptaha and shared few stories from Bhagavata. Smt Padma Adigal from

VKVVF Kodungallur and Su. Shanta Kumari from Palaghat were the main acharyas of the saptaha. All the participants of the Saptah were well acquainted with the reading of Bhagavata and shared their knowledge

about Bhagavata during Saptaha. Programme was concluded on 15 June 2017. Around 100 people partook the prasad. Su Radhamma from Thiruvananthapuram sponsored the entire programme.

Friday, June 23, 2017

Personality Development Camp at VKV Badarpur

A 5 day non-residential Personal Development camp was organized by Vivekananda Kendra Vidyalaya, Badarpur at Anandadham Kalibari, Badarpur, from 23rd May’17 to 27th May’17, where 42 students attendend. Apart from VKV Badarpur, 5 other school student also participated in that camp. The program was inaugurated in the presence of Sree Chinmoy Boruah dada, Nagar pramukh, Badarpur, Sree Niharanjan Das Dada a teacher of Maharshi Sandipan school and Sree Prashanta Chakraborty Dada Headmaster VKV Badarpur.

Every day from 9:00 am to 3:00 pm different activities started from Pratahsmaran to Kendra Prarthana, along with various Boudhik satras, Manthans, Karyashalas, Yogabhyas, Geetabhyas and sanskar Varga were followed.

The topic of the Boudhik Satras were: Our Ideal Swami Vivekananda, Mananiya Eknathji and his leadership, Bharatiya Sanskriti and Adarsha SanskarVarga

And the related Manthan and Karyashalas were : Patriotism in practice, Leadership, Health and hygiene and Team Building

On 27th May’17 at 2:00 pm the Samarpan samaroh was followed in presence of various dignitaries and parents of those students. The dignitaries were- (1) Sree Ahindra Das, teacher of Rly High school, (2) Sree Shitish Ranjan Das, Headmaster of Pramodini Vidyanikitan School,Kalinagar , (3) Sree Bishwa Baran Boruah a senior Advocate of Karimganj Judge Court. All of them were very happy for those steps taken for the children and have put light upon the importance of those camps and those habbits that build our character. The program concluded with Kendra Prarthana. 

Vishwabhanu bulletin April-May-2017

Tuesday, June 20, 2017

193rd Free Eye Camp at Kanyakumari​

Vivekananda Kendra Kanyakumari organized 193rd Free Eye Camp on 7th June 2017 Wednesday from 9:00 a m to 3:00 p m in Vivekanandapuram Campus.​ This Eye Camp was ​Sponso​​r​ed by​ Smt S Shankary (In memory of her husband late MGS   Shankar) of Tirunelveli.
The Camp was inaugurated by lighting the lamp by LifeWorker, Kum. Aparna Palkar in presence of Dr. Sneha & Dr. Pradhan of the Aravind Eye Hospital, Tirunelveli. Including Doctors total 15 member of Medical Team has conducted the camp. They checked up more than 180 outdoor patients, from which 38 patients have been sent to Tirunelveli for Operation and with this free Spectacles and post operative medicine were distributed to Eye Patients at Vivekanandapuram campus at Vivekananda Kendra, Kanyakumari.
Free Eye Camp was organised every first Wednesday morning of every month at Vivekanandapuram Campus at Vivekananda Kendra, Kanyakumari. One can contribute his service or sponsor a Eye Camp. Plz drop an email to dona...@vkendra.org to get more details.

Green Rameswaram NewsLetter May 2017

Vivekananda Kendra - Nardep received the "Environmental Award" for its work at Rameswaram in the year 2015 - 16 on 5th June – ‘World Environment Day’. Environment Minister K.C.Karupanan, Govt. of Tamilnadu handed over the award to Sis.Saraswathi on behalf of Vivekananda Kendra - Nardep at the glittering function held at Chennai. This month has the following highlights:

Proceedings of the ‘Visioning Exercise’ for ‘Green Resilient Rameswaram’

Proceedings of the ‘Visioning Exercise’ for ‘Green Resilient Rameswaram’

Sustainable Electricity Access - Some Thoughts by Dr.Ramarathnam of Basil Energetics.

Regular awareness programmes on Waste management by Hand in Hand India.

Shri.Subramanian of C.P.R. Environmental Educational Center writes about Nakshatra Vanam. This month he gives the details of Shathabhisha Nakshatra.

Economic viability of Drumstick cultivation and creation of value added products

In Water harvesting section, you can see the story on the ‘Sarvaroga Nivarana Teertham’ as well as the inauguration of the Traditional Water Body and finally the work to build Social Capital

Monday, June 12, 2017

Environmental Award to VK Nardep

Vivekananda Kendra - Nardep received the "Environmental Award" for its work at Rameswaram in the year 2015 - 16 on 5th June – ‘World Environment Day’. Environment Minister K.C.Karupanan, Govt. of Tamilnadu handed over the award to Sis.Saraswathi on behalf of Vivekananda Kendra - Nardep at the glittering function held at Chennai.

VK Nardep Monthly Newsletter May 2017

Albert Schweitzer, a Nobel Laureate was a French-German theologian, organist, philosopher, and physician. He coined the phrase “Reverence for Life”. These words came to Albert Schweitzer on a boat trip on the Ogooué River in French Equatorial Africa (now Gabon), while searching for a universal concept of ethics for our time.

Schweitzer made the phrase the basic tenet of an ethical philosophy, which he developed and put into practice. He gave expression to its development in numerous books and publications during his life.  He also used his hospital in Lambaréné in Gabon (Central Africa) to demonstrate this philosophy in practice. In this month, we are giving a few of his quotable quotes.

Shri.N.Krishnamoorthy covers the topic of ‘Green Diversity’ by way of dialogue between Srimati Annapurna Duval, Shri Krish Phidal and Professor Jnani Noval.  In happenings section, we have covered training programmes on Vermi Technology, Bee Keeping, Water management, Bio-methanation technology, Refresher course and Exposure visits etc.

In the wisdom section, Wolfgang Sachs, Editor of ‘The Development Dicitionary’ writes about the dilemma of the human being between Tradition and Modernity while Jean Robert, a Swiss Architect and writer of ‘The history of modern consciousness’ explains how the Development is directly proportional to the degradation of environment and finally Dr.Vandana Shiva in her usual style explains the Crisis of sustainablilty.  For reading the newsletter,  please click here.

Residential Personality Development Camp in Kanyakumari

Vivekananda Kendra Nagarkoil conducted one day Personality Development Camp at 5 place in Kanyakumari, 200 children participated in camp. There was 5 days residential personality development camp in kanyakumari of selected 55 students.

Adaraneeya Krishnamurthy Annaji inauguarated the camp with inspiring stories. There were different sessions on Personality and Patriotism.  There was discussions on subject like daily routine, hobbies and duties. Drama and folk songs were the part of the camp. Stories were told from Ramayan and life of the great freedom fighters. There was small visit of Vivekananda Rock Memorial and Sri Ramayanam Dharshanam

Adaraneeya Radhadidi and Sri ParameswariMataji of Sharada Ashram concluded the camp with Paadha Poojai and Prarthana for Rain. Around 45 parent Participated in the Poojai and altogether we chanted for Rain.

व्यक्तित्व विकास" शिबिर @ भुबनेश्वर

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा भुबनेश्वर वाणी विहार उत्कल विश्वविद्यालय परिसर में 18/05/2017 से ले कर 21/05/2017 तारीख तक एक "व्यक्तित्व विकास" शिबिर का आयोजन किया गया था। 30 बहन और 15 भाई को मिलाकर इस शिबिर में 45 छात्रछात्रि योगदान दिए थे। शिबिर का हर सुबह शांतिपाठ से सुरु हो कर गीता पाठ, सूर्यनमस्कार, आसन, खेल, देशात्मक गीत, सृजनशीलता अदि कार्यक्रम हुआ करता था। सभी छात्रने उत्साह के साथ इस शिबिर में हिस्सा लिया। शिबिर के अंतिम दिन में अतिथि क रूप में Shree Basudev Chatoi (सह नगर संचालक दायित्य) और Smt. Geeta Hatial (व्यबस्था प्रमुख दायित्य) आये हुए थे और बच्चों के मातापिता भी शिबिर में योगदान दिया।

एक में अनेक की अनुभूति है योग

क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान में योग सत्र का आयोजन : वेद का वाक्य ‘एकोह्म बहुस्यामः’ के अनुसार एक ही ब्रह्म जो अनेक स्वरूपों में प्रकट हुआ है उसकी अनुभूति कर लेना ही योग है। योगाभ्यास के माध्यम से समाहित अवस्था में प्राप्त ऊर्जा से व्युत्थान अवस्था अर्थात संपूर्ण दिन में योगमय स्थिति को पा लेना ही योग है। चित्त की वृत्तियों को नियंत्रित कर अपने आनंदमय स्वरूप को प्रकटीकरण ही योग है। उक्त विचार विवेकानन्द केन्द्र राजस्थान प्रान्त प्रशिक्षण प्रमुख डॉ0 स्वतन्त्र कुमार शर्मा ने क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान द्वारा अपने अधिकारियों, कर्मचारियों, शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के लिए आयोजित दस दिवसीय योग प्रशिक्षण सत्र के दौरान व्यक्त किए। इस अवसर पर छात्रों का विशेष सत्र लेते हुए पूर्णकालिक कार्यकर्ता सुरेश लामा ने शिथिलीकरण, सूर्यनमस्कार एवं विभिन्न क्लिष्ट आसनों का अभ्यास कराया गया। नगर प्रमुख रविन्द्र जैन ने बताया कि यह सत्र 10 जून तक लगाया जा रहा है।

Yoga Satra @ Kovilpatti


Vivekananda Kendra Kanyakumari Kovilpatti Branch conducted 7days yoga satra at Kovilpatti Nadar Kamraj Metric School from 21st to 27th May 2017. Participants learn about Relaxation Technique, SuryaNayaskar, Assan, Pranayam and also get first hand experience of Neti​ ​Kriya. Total 45 person encouragingly took participation in all the activities.

Karyakarta Prashikshan Shivir​ @Telugu Prant ​​

Praant Karyakarta Prashikshan Shivir was held in Telugu Praant from 11 a.m. on 21- 1 p.m. on 28 May 2017. Participants: 7 and organising team -6 (of this one was a participant). Total: 12.

In addition to the regular sessions, there were a series of five sessions on Bharateeya Sanskriti: 1.Dharma - the Soul of India 2. Punyabhoomi Bharat and its glorious past 3. ​Varna and Aashram Vyavastha 4.The Bharateeya Vision of Indian Womanhood and 5. Bharateeya Ideal of Seva (Pancha Mahayagna and the functioning of the Ideal Social Order). A special session on Gita in Daily Life was taken by Dr. Sarojini who is a visiting Professor at the University of Hyderabad. Guests who came to take sessions were Sri D.Shanmukheshwar Rao, Co-ordinator, Saksham, Telangana Praant and Sri G. Anil Kumar, Co-ordinator FTS - South India. The Aahuti Satra was taken by Sri CV Ramuluji, Praant Sanchalak and Sri Maruthimohan Reddy, Vibhag Pramukh, Rayalaseema Vibhag.

As a tribute to Sister Nivedita Sri PVS Karthik Kumar narrated inspiring incidents from her life during Prerana se Punarruthan. Yoga Satra-Varga as well as two sessions to familiarise participants with the International Day of Yoga were taken by Sri G. Srinivas, Jeevanvrati and Prakalpa Sangathak, VK Kaushalam. Sri Rama Sudhakar and Sri Vijay Kumar coordinated the Samskar Varga sessions.

300 families were contacted through a special Samparka drive in areas around the VK Kaushalam campus. In addition to a brief Kendra parichay, families were invited to join Sanskar Varga and Yoga varga.

Regular Yoga varga participants at VK Kaushalam also joined for the daily Yoga Varga and some joined for the Kendra Varga and Samskar varga also.

Free Eye Camp at Pengeree

Vivekananda Kendra Kanyakumari in association with Lion K.K.Saharia Eye Hospital, Dibrugarh and Jatiya Vidyalaya, Pengeree organized one Free Eye Camp at Pengeree on 30th May 2017.  A total 107 patients were examined by the eye Hospital team and 23 patients with cataracts were detected during the day long camp. The patients with cataracts will be operated phase wise and the first batch of 8 patients will be operated tomorrow. The transportation, food, hospitalization, medicines and surgery for each patient will be free of cost. Patients from many interior villages and tea gardens were immensely benefitted during the camp.

The owner of Jatiya Vidyalaya, Pengeree, Sri Kuldeep Sharma donated 36 spectacles to the poor and needy patients during the camp. The Indian Army unit, stationed at Pengeree provided refreshments to the medical team.

संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर @ इंदौर ​

विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी इंदौर नगर में संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर दिनांक 24 मई से 28 मई तक आयोजितकिया गया। संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर यह कार्यकर्ता के वैचारिक स्पष्टता तथा राष्ट्र निर्माण में कार्यकर्ता की भूमिका इन विषयों को लेकर आयोजित किया जाता है।

शिविर में कुल 3 बौद्धिक सत्र हुए, 1.संकार वर्ग क्यों?, 2. संस्कार वर्ग कैसे, 3. राम और कृष्ण संस्कार वर्ग के प्रणेता।  शिविर में दिनचर्या सुबह 5.00 बजे जागरण व प्रातः स्मरण से प्रारम्भ कर संस्कार वर्ग का अभ्यास, एकात्मता स्तोत्र का अभ्यास व पठन किया गया। मंथन सत्र में संस्कार वर्ग से वर्त्तमान चुनोतिया का समाधान इन विषय पर चर्चा व प्रस्तुति की गयी। अभ्यास सत्र वैदिक गणित कार्यकर्ता ने लिए। नैपुण्य वर्ग में संस्कार वर्ग रचना, सूर्यनमस्कार, कथाकथन, गीत, प्रार्थना यह विषय लिए गए। सुबह और शाम शारीरिक अभ्यास में संस्कार वर्ग लिया गया, कथाकथन में श्रद्धावान नचिकेता, वीर अभिमन्यु, सीता पुरत्र लव –कुश, भक्त प्रल्हाद, स्वामी विवेकानन्द, गुरु गोविन्द सिंह इन विषयों पर हुई। प्रेरणा से पुनरुत्थान में देवासुर संग्राम, राम रावन युद्ध, भागीरथ प्रयास इन विषयों पर कथाकथन हुआ।

शिविर में समापन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में विवेकानन्द केंद्र प्रान्त संपर्क प्रमुख श्री अतुल सेठ जी, सरस्वती शिशु मंदिर के सचिव श्री दंडवते जी, संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर के शिविर अधिकारी आ. श्रीमती श्रद्धाताई देशपांडे  ने कार्यकर्ताओं को आशीर्वचन दिए। श्री अतुल सेठ जी ने प्रशिक्षनार्थी और पालक वर्ग को बताया की परिवार में एक सामूहिक दिनचर्या होनी चाहिए, पालक स्वयं टी.वि., मोबाइल, से दूर रहे विवेकानन्द केंद्र की गतिविधिओं में भाग ले, परिवार में अनुशासन का कटाक्ष करे। शिविर अधिकारी श्रीमती श्रद्धाताई देशपांडे ने पलकों को संस्कार वर्ग के अभिभावक बने यह आहवाहन किया। समापन कार्यक्रम में इंदौर नगर से प्रबुद्धजन, शिविरार्थियो के पालक  भी उपस्थित थे।

शिविर में कुल 5 गण अदम्य, अभी:, तेजस, अग्निशिखा, अम्रुत्प्राणा की रचना की गयी थी , तथा कार्यालय को निष्पक्ष, अधिकारी कक्षा को निश्रेयेस, संचालन चमू कक्षा को​ अभुदय यह नाम रखे गए थे। शिविर में इंदौर नगर से 34, धार नगर से 6 संचालन चमु 15 ऐसे कुल 55 कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Tuesday, May 30, 2017

Personality Development Workshops at Odisha

V​ivekananda ​K​endra​ Odisha Seva Prakalpa​ conducted non-residential Personality Development Workshop at 4 places in Odisha for the children to nurture not only their personality but also to inculcate the Indian values.​ First workshop was organised at Rutisela from 16th to 18th May 2017 where 72 children participated, while rest of the 3 workshops were organised at Dvabandh from 21st May to 23rd May in which 124 children participated.
Children were enrich with five fold development of personality as envisaged by Swami Vivekananda. The workshp include different games to improve concerntration, memory power and help to develop Team Spirit. Children came out with practical suggestions to make a positive changes in society.

शिमला में योग सत्र एवं साहित्य सेवा

विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शिमला शाखा द्वारा 15 मई से 19 मई तक सुबह 5:45 से 6:45, आर्मी ट्रेनिंग कमांड (ARTRAC - SHIMLA) में  योग सत्र का आयोजन किया गया इस योग सत्र में शिथिलीकरण, सूर्य नमस्कार, आसन एवं प्राणायाम का निर्देशन एवं अभ्यास  हुआ।
इस सत्र में 43 अफ़सर एवं जवानों ने भाग लिया।

शिमला के  ऐतिहासिक गेइटी  थिएटर में हिमाचल प्रदेश भाषा संस्कृति, साहित्य अकादमी एवं   नेशनल बुक ट्रस्ट ऑफ इंडिया द्वारा लगाए गए पुस्तक मेले में विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शिमला शाखा द्वारा साहित्य सेवा का आयोजन 13 से 21 मई 2017 तक  हुआ।

असंभव शब्द नहीं था एकनाथजी के शब्दकोश में

कन्याकुमारी में विवेकानन्द शिला स्मारक और विवेकानन्द केन्द्र  को साकार रुप देने वाले रा.स्व.सं. के वरिष्ठ प्रचारक एकनाथजी रानाडे के व्यक्तित्व और कृतित्व पर हाल ही में एक चलती चित्र तैयार हुआ है इस मौके पर केन्द्र की उपाध्यक्ष पद्मश्री निवेदिता भिड़े से पांचजन्य के सहयोगी संपादक आलोक गोस्वामी ने बातचीत की।
http://panchjanya.com/arch/2017/02/26/default.aspx

संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर @ ​रायपुर

राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण आज की आवश्यकता है। बालकों में संस्कारों का सिंचन कर उनमें राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण किया जा सकता है। उक्त विचार व्यक्त करते हुए  डॉ. पूर्णेन्दु सक्सेना​ (आरएसएस प्रान्त सहसंघचालक)​ ने कहा कि बिना पराक्रम के कुछ भी प्राप्त नहीं होता। डॉ.​ पूर्णेन्दु ​सक्सेना विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी, शाखा रायपुर की ओर से आयोजित तीन दिवसीय आवासीय "संस्कार वर्ग प्रशिक्षण शिविर" के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर नगर के प्रसिद्ध प्लास्टिक सर्जन डॉ.विवेक चौबे तथा केन्द्र के नगर संचालक मावजीभाई पटेल मंच पर विराजमान थे।

डॉ.पूर्णेन्दु ने कहा कि धर्म प्रत्येक मनुष्य के हृदय में विद्यमान है, इसी के बल पर व्यक्ति उचित-अनुचित, सही-गलत के बीच के अंतर को समझता है। उन्होंने कहा कि आज्ञापालन और अनुशासन यदि हमारे जीवन में है तो हम निश्चित रूप से सफल होंगे। उन्होंने सद्गुरु कबीर साहब, चाणक्य, गुरु गोविन्द सिंह तथा स्वामी विवेकानन्द के जीवन प्रसंग व विचारों के आधार पर नैतिक मूल्यों के महत्व को बताया।

इस अवसर पर डॉ.विवेक चौबे ने कहा कि संस्कार हमारी संस्कृति का महत्वपूर्ण भाग है। हमारी संस्कृति हमें संस्कारित करती है। जब हम पूरी निष्ठा व ईमानदारी से कार्य करेंगे तो हमारी प्रतिभा निखरेगी। हम हर कार्य में निपुण होंगे। उन्होंने कहा कि प्रतिभावान व चरित्रवान लोगों से ही राष्ट्र का विकास होता है।

इससे पूर्व "राष्ट्र की जय चेतना का गान वन्दे मातरम्" यह शिविर गीत प्रस्तुत किया गया। शिविर की प्रस्तावना केन्द्र के सहनगर प्रमुख रूपेश अवधिया ने रखी तथा संचालन नमन शुक्ला ने किया।

Personality Development Workshopt at Balasore

Vivekananda Kendra kanyakumari Balasore branch has organised a non-residential Personality Development Workshop from 5 to 14th May 2017, in which more than 50 students participated and learn Yogabhyas, Story, Patriotic & Action Song.

Saturday, May 27, 2017

Samskar Varga Prashikshan Shivir at Beawar

Vivekanand Kendra Kanyakumari, Branch Beawar, has organised the Sanskar Varga Prashikshan Shivir from 17 to 20 May 2017. The shibir is fully residential for the student from age group 9 to 15, in which total 105 children participated and learn Mantra, SuryaNamaskars, Bhajan, Story telling, Patriotic Song and Yogabhyas.

अजमेर में योग सत्र

‘जीवन में मुस्कान’ थीम पर आधारित विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर की ओर से योग प्रशिक्षण सत्र का आरंभ शहीद भगत सिंह उद्यान, वैशाली नगर में हुआ। प्रथम चरण में सामान्य वर्ग एवं वरिष्ठ वर्ग में अभ्यास कराए गए। शिथलीकरण व्यायामों के साथ वरिष्ठ वर्ग में सूक्ष्म व्यायाम तथा चेयर सूर्यनमस्कार का अभ्यास कराया गया। क्रीड़ा योग के तहत हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की खेल हुआ।

केन्द्र के नगर प्रमुख रविन्द्र जैन ने बताया कि इस योग सत्र में वरिष्ठजन के लिए विशेष अभ्यास कराए जा रहे हैं जिनके द्वारा दिनचर्या में होने वाली जोड़ों एवं मांसपेशियों की सामान्य तकलीफों का समाधान मिलता है। योग सत्र में उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता कर रहे शहीद भगत सिंह उद्यान समिति के अध्यक्ष राजेन्द्र गांधी का योग की पुस्तक भेंट कर सम्मान किया गया।

योग सत्र आयोजन में डाॅ. श्याम भूतड़ा, कुशल उपाध्याय, सीए भारत भूषण बन्सल, राकेश शर्मा, नीलम अग्रवाल, जुगराज मीणा, मनोज बीजावत, राखी वर्मा, डाॅ. बी एस गहलोत, रामचन्द्र यादव, कुसुम गौतम, याशिका यादव, राजरानी कुशवाहा आदि का सहयोग रहा।

प्राणिक ऊर्जा का स्रोत है सूर्यनमस्कार

वनस्पति जगत, प्राणी जगत तथा संपूर्ण ब्रह्माण्ड की ऊर्जा का स्रोत सूर्य है। घेरण्ड संहिता में वर्णित सूर्यनमस्कार बारह आसनों का ऐसा सम्मिश्रण है जिसके अभ्यास से समस्त चराचर जगत में व्याप्त सकारात्मक ऊर्जा से न केवल शरीर अपितु मन, बुद्धि एवं प्राण भी ऊर्जा से परिपूर्ण हो जाते हैं। यह अभ्यास मन को साधने का कार्य करता है जिससे स्थिरता पूर्वक आसन एवं मंथरता पूर्वक प्राणायाम करने की क्षमता विकसित होती है। उक्त विचार विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी राजस्थान के प्रान्त प्रशिक्षण प्रमुख डॉ0 स्वतन्त्र शर्मा ने केन्द्र की अजमेर शाखा की ओर से शहीद भगत सिंह उद्यान, वैशाली नगर चल रहे योग प्रशिक्षण के दूसरे दिन के सत्र में व्यक्त किए।

आज साधकों को चरणबद्ध रूप से श्वासों की गति को नियंत्रित करते हुए मंत्रोच्चार के साथ सूर्यनमस्कार का प्रशिक्षण दिया गया। डॉ. शर्मा ने बताया कि मन को सकारात्मक ऊर्जा से भरने का माध्यम योग है। इसके अभाव में हमारे मन में नैसर्गिक रूप से नकारात्मक विचार घर करने लगते हैं और यह प्रकृति का स्वभाविक नियम भी है, इसलिए हमें योग अभ्यास की समाहित अवस्था को शेष दिन की गतिविधियों के लिए व्युत्थान अवस्था में बदलने की कला आनी चाहिए। जीवन जीने की यह कला ही योग कहलाती है।

आसनों के अभ्यास से स्थिर होता है मन

आसनों से शरीर के जोड़ लचीले होते हैं। मांसपेशियों की सुदृढ़ता बढ़ती है तथा साथ ही मन भी स्थिर होने लगता है। मन की चंचलता कम होने से चित्त की वृत्तियाँ निर्मूल होती हैं। शांत मन के लिए श्वास की मंथरता आवश्यक है। इसके लिए देर तक एक मुद्रा में बैठना आवश्यक होता है जिसका अभ्यास केवल आसन सिद्धि से ही हो सकता है। उक्त विचार विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी राजस्थान के प्रान्त प्रशिक्षण प्रमुख डाॅ स्वतन्त्र शर्मा ने शहीद भगत सिंह उद्यान, वैशाली नगर में चल रहे योग प्रशिक्षण सत्र के दौरान व्यक्त किए।

Yoga Shiksha Shivir & Certificate Course at Kanyakumari

All India Yoga  Shiksha  Shivir was held in Vivekananda Puram, Kanyakumari from 05th   to 19th May 2017.

The reporting day was 4th May and most of the participants had arrived and reported during the day. Thirty nine  participants from Five different states viz, Maharastra,Tamil Nadu, Kerala, Karnataka, and West Bengal are reported.

From December 2016 Vivekananda Kendra Introduced Six Month’s Yoga Certificate Course i.e. YCC. Participants of YCC also reported on 4th May 2017, Twenty five participants from different Nine states, viz Maharashtra, Bihar, Karnatak, Kerala, Madhya Prant, Odisha, Rajasthan, Tamil Nadu and Uttar Pradesh. One Sister from Indonesia also participate in camp.

On the same day the participants  attended the Bhajan Sandhya and Introductory session, wherein the participants were given orientation for the camp. The medium of the camp was in Hindi and English. The 39 participants of Yoga Shiksha Shivir and 25 participants of Yoga Certificate Shivir were organized into Six  different groups, The Names of Holy Rishies related to Darshan Shastra given to groups.   Three English Group – Kanad, Jaimini and Ved Vyas & Three groups for Hindi – Kapil, Patanjali and Gautam

The Fifteen Day camp had Morning Prayers, Gita-Pathan, Yoga Abhyas, Shram-Samskar, two Lecture sessions, Manthan, Geet-Abhyas, Yoga Abhyas, Pranayam Abhyas,Yoga Varg,Omkar Dhyan, Cyclic Meditation,  Bhajan Sandhya, and concluded with Prerna se Punuruthhan. All Yogabhays sessions are conducted by last year’s (Dec 2016) YCC students and Shiksharthi as this is the part of their studies.

The lecture sessions were on the topics of: Concepts of Yoga, Rajayoga, Bhakti Yoga,  Jnana Yoga and Karma Yoga Shlok Sangrah, Bharateeya Samkriti, Concepts of Dharma, Kendra Prarthana, Maneeya Eknathaji, Swami Vivekananda, Story of Vivekananda Rock Memorial, Challenges and Response, Vivekananda Kendra-Concepts.

On 10th May there was session on Adi Shanka and Rama Krishna Paramhansa and Maa Sharada by Dr. K. Subramaniyam which was combined for both groups. In This Camp  two new subjects added one is Gauravshali Bharat and Tyaga aur Seva which was guided by Ma. Nivediata Didi. There was a Q & A session based on questions on Bhartiya Samskruti – All questions answered by VRMVK 's VicePresident, Ma. Nivediata Didi, who was conferred with PadmaShree Award recently.

During Manthan session Participants discussed on the subject based on various  lecture sessions. During Shram-Samskar, participants took care of the cleanliness, arrangement and management of the premises, accommodation, class rooms and dining hall displaying team-spirit and selfless service.

ON 9th May Participants visited Vivekananda Rock Memorial, Kanyakumari Amman Temple, Wandering Monk. On 15th May Participants went to Marutva Malai and afternoon visited Vivekananda Pictorial, Gramodaya and Gangotri exhibition and Ramayanam

Darshnam. That day Bhajan sandhya was arranged in front of Shri Hanuman Statue at Aramayana Darshnam. 

The Shivir went on well in a congenial, spiritual atmosphere with moderate discipline and affection.  On 11th  May  Prearna se Punuruthhan  was conducted by Ma. Hanuji at  Vivekanand Mandapam. All Participants enjoyed it. Many of the participants have expressed their willingness to devote their time and energy for the Service of the society through Vivekananda Kendra. Some are enrolled as Patrons thus joining the large family of Vivekananda Kendra. 

Friday, April 7, 2017

पटना में योगसत्र

विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी शाखा ,पटना द्वारा पशु चिकित्सा महाविद्यालय के छात्रावास सर्वप्रथम भाइयों के छात्रवास में 20 मार्च से 26 मार्च तक योग सत्र का आयोजन किया गया इस योग सत्र का विशेष उद्देश्य योग की महता को युवाओं तक पहुँचाना साथ ही साथ योग का विद्यार्थी जीवन में क्या महत्त्व है इसको समझाना हमने उनको शारीरक अभ्यास के साथ साथ ये भी बताया की जीवन में हमने जितना ग्रहण किया है उस से ज्यादा समाज को वापिस देना और बताया की ये यज्ञ की संकल्पना यदि रूक गई तो समाज दुर्भल होता जायेगा और व्यक्ति समाज में समस्या के रूप में खड़ा हो जायेगा इसलिए इस संकल्पना को आगे बढ़ाना ।

योग सत्र के समापन में महाविद्यालय के DEAN डॉ. समन्तराय जी ने युवाओं को इसे नियमित करने के लिए आव्हान किया और कहा की व्यक्तित्व विकास शिविर भी अपने महाविद्यालय आयोजित करवायेंगे , केंद्र के सहा नगर प्रमुख डॉ. पंकज कुमार जी ने केंद्र की गतिविधियों पर प्रकाश डाला साथ ही केन्द्र से नियमित जुड़कर इस राष्ट्र कार्य में अपना योगदान  देने के लिये आव्हान किया ।

27 मार्च से 2 अप्रैल बहिनों के छात्रावास में योग सत्र का आयोजन किया उस योग सत्र का समापन में केंद्र की कार्यालय प्रमुख  श्रीमती सुभाषिनी द्विवेदी  जी ने केन्द्र कार्य से जुड़ने के साथ साथ बहिनों को अपनी भूमिका निभाने की लिये कहा और उन्होंने बताया की ये योग हमारे समूर्ण जीवन को बदल देगा और आने वाली नई पीढ़ी संभल और सकारात्मक होगी  उन्होंने इसे नियमित करने के लिये भी आव्हान किया ।

Monday, April 3, 2017

योग का प्रथम अध्याय है अनुसाशन

21 फरवरी से 2 मार्च 2017 तक दस दिवसीय योग शिविर का बिहार - पटना में किया गया। इस योग शिविर में उपस्थित प्रतिभागियों को शिथलीकरण, सूर्यनमस्कार ,और आसन ,प्राणायाम के अभ्यास के  साथ- साथ पतंजलि ऋषि के आठ सूत्र यम, नियम ,आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार ,धारणा, ध्यान,और समाधी के बारे में बताया गया किस प्रकार ये हमारे जीवन से जुड़े हुए है साथ ही इनका हमारे जीवन में कितना महत्त्व है ये बताया गया। इस शिविर में 21 प्रतिभागियों की उपस्थिति रही।

शिविर के समापन में श्री किशोर टोकेकर ( सयुंक्त महासचिव विवेकानन्द केंद्र ) उपस्थित रहे उन्होंने योग सत्र के समापन में मार्गदर्शन करते हुए बताया की योग  वह विधि है जिसमें मनुष्य पशु-मानव के स्तर से विकास करता हुआ मानव-मानव,अति-मानव और उससे आगे दिव्य-मानव के पद की ओर अग्रसर होता है आगे उन्होंने बताया की वैयक्तिक उपलब्धियों तथा सामाजिक समरसता की प्राप्ति हेतु योग,स्पष्टत:,एक वास्तविक समाधान है।

मुकेश कीर (प्रान्त संगठक बिहार+झारखण्ड) द्वारा विवेकानन्द केन्द्र की विभिन्न गतिविधियों पर प्रकाश डाला गया साथ ही उन्होंने केंद्र से जुड़कर इस राष्ट्र यज्ञं में अपना योगदान देने के लिए आह्वान किया।

स्थानीक कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर, खंडवा नगर

विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी इंदौर विभाग द्वारा खंडवा नगर में स्थानिक कार्यकता प्रशिक्षण शिविर दिनांक 22 मार्च से 26 तक आयोजित किया गया। कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर यह कार्यकर्ता के वैचारिक स्पष्टता तथा राष्ट्र निर्माण में कार्यकर्ता की भूमिका इन विषयों को लेकर आयोजित किया जाता है।

शिविर में कुल 6 बौद्धिक सत्र हुए, 1.राष्ट्र भक्त सन्यासी स्वामी विवेकानंद , 2. केंद्र प्रार्थना, 3. संघटित कार्य की आवश्यकता  4. मा. एकनाथजी, 5. संस्कार वर्ग क्यों और कैसे 6. गुण एवं जीवन ध्येय। शिविर में दिनचर्या सुबह 4.30 बजे जागरण व प्रातः स्मरण से प्रारम्भ कर संस्कार वर्ग का अभ्यास, कर्म योग श्लोक संग्रह का अभ्यास व पठन किया गया। मंथन सत्र में सेवा ही साधन से सुव्यवास्थित मानसिकता  अध्याय का पठन, संस्कार वर्ग से वर्त्तमान चुनोतिया का समाधान इन विषय पर चर्चा व प्रस्तुति की गयी। अभ्यास सत्र में उठो जागो अभियान, महाविद्यालय में केंद्र वर्ग एवं उत्सव के विषय कार्यकर्ता ने लिए। शाम शारीरिक अभ्यास में संस्कार वर्ग लिया गया। प्रेरणा से पुनरुत्थान में भगिनी निवेदिता की कहानी बताई गयी।

शिविर में समापन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ के मा. प्रान्त सह संघचालकजी डॉ प्रकाश शास्त्री, खंडवा शासकीय बहुशिल्प महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ चंद्रशेखर ढबू और विवेकानंद केंद्र की प्रान्त संघटक कु. रचना दीदी  ने कार्यकर्ताओं को आशीर्वचन दिए। डॉ शास्त्रीजी ने बताया की संगठन में नेतृत्व करने वाला कार्यकरता स्पष्ट और व्यवस्थित है तो कार्य यह परिणामकारक होता है, डॉ चंद्रशेखर ढबू जी ने स्वयं पर नियंत्रण करने की बात कही, आ. रचना दीदी ने कार्यकरताओ को आहवाहन किया की यह समय अधिक कार्य करने का है अतः अपने जीवन का अधिक से अधिक समय हम दे । समापन कार्यक्रम में खंडवा नगर से प्रबुद्धजन भी उपस्थित थे। शिविर के अंतिम दिन कार्यकर्ताओं ने श्री दादाजी धूनीवाले के दर्शन किये और प्रसादी ग्रहण की ।

शिविर में कुल 4 गण त्याग, सेवा, समर्पण,श्रद्धा की रचना की गयी थी। शिविर में इंदौर नगर से 16, धार नगर से 3 और उज्जैन नगर से 9 , खंडवा नगर से 2 , संचालन चमु 10 ऐसे कुल 40 कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Cyclic Meditation Camp at Chinchwad

Chinchwad branch had organized a 4 day Cyclic meditation camp from 20/03/2017 to 23/03/2017 at Dhokha Pratishthan Chinchwad which was conducted by Shri Vishwasji. We had an overwhelming response for this program and over 150 people attended all 4 days regularly. ​The good comments from the people and desire of some participants to join our organization means a lot to us.

We are now in touch with the Police department here to give them a training session on Cyclic meditation looking at their busy stressful life full of tension.

W​e would ​like to thank all the karyakartas for helping and making this program a big success. Also we would like to thank Mr. and Mrs. Dhoka for arranging a big hall for this session free of cost.

Friday, March 24, 2017

Conference on Swami Vivekananda

एसडी पीजी कॉलेज में “स्वामी विवेकानंद: द वाइस ऑफ़ यूथ” विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का सारगर्भित समापन
आज की गतिविधियाँ: भाषण, खेल, प्रेजेंटेशन, डिस्कशन

उच्चतर शिक्षा विभाग द्वारा प्रायोजित दो दिवसीय नेशनल कोन्फेरेंस का एसडी पीजी कॉलेज में आज विधिवत एवं सारगर्भित समापन हो गया. “स्वामी विवेकानंद: द वाइस ऑफ़ यूथ” थीम लिए इस सेमिनार ने प्रदेश के सुदूर कोनो से आये विवेकानंद विद्वानों और रिसर्च स्कोलर्ज को अपनी तरफ खिंचा. दूसरे दिन के मुख्य वक्ता श्री अशोक बत्रा, प्राचार्य हिन्दू कॉलेज रोहतक और श्री दशरथ चौहान, विभाग प्रमुख विवेकानंद केंद्र हरियाणा प्रान्त रहे. सुश्री अलका गौरी जोशी, प्रान्त संगठक विवेकानंद केंद्र हरियाणा प्रान्त ने प्रतिभागियों और रिसर्च स्कोलर्ज को खेल, प्रेजेंटेशन और डिस्कशन के माध्यम से व्यवहारिक प्रशिक्षण दिया तथा उन्हें खुद से आत्मसात किया. प्रदेश के भिन्न-भिन्न कालेजो से आये रिसर्च सकोलर्स और प्राध्यापको ने भी आज की कार्यशाला में भाग लेकर स्वामी विवेकानंद के बताये मार्ग पर चलने का प्रण लिया. सिरसा, कैथल, पंचकुला, अम्बाला आदि से आये रिसर्च सकोलर्स ने इस दो दिवसीय कोन्फेरेंस में स्वामी विवेकानंद पर लिखे अपने शोध पत्र भी प्रस्तुत किये.

मुख्य वक्ता श्री अशोक बत्रा, प्राचार्य हिन्दू कॉलेज रोहतक ने अपने वक्तव्य में स्वामी विवेकानंद द्वारा विश्व धर्म सम्मलेन में दिए गए भाषण का जिक्र करते हुए कहा कि उनके द्वारा बोले गए शब्द उन्हें आज भी याद है, “मेरे अमेरिकी बहनों और भाइयों, आपके इस स्नेह्पूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय आपार हर्ष से भर गया है। मैं आपको दुनिया के सबसे पौराणिक भिक्षुओं की तरफ से धन्यवाद् देता हूँ”. श्री बत्रा ने कहा कि दुनिया को शहनशीलता और सार्वभौमिक स्वीकृति का जो पाठ विवेकानंद ने पढाया है वह दुर्लभ है. शब्दों का चुनाव कैसे हो, और कैसे एक-एक शब्द हमारा पूरा व्यक्तित्व ही बदल सकता है यह सन्देश हमें स्वामीजी ने ही समझाया है. श्री बत्रा ने आज इस अवसर का लाभ उठाते हुए उपस्थित प्रतिभागियों को लिखने कि कला और शब्दों कि ताकत के बारे में विस्तार से समझाया.

सुश्री अलका गौरी जोशी ने कहा की आज की भाग-दौड़ की जिंदगी में किसी के पास भी इतना समय नहीं है के वह आत्म-चिंतन और गंभीर मंथन कर सके। मानसिक-अवसादों के कारण हमारा व्यक्तित्व और स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन गिर रहा है। ऐसे में आत्मिक संतुष्टि और संतुलन के लिए विवेकानंद विचारों को हमें अपनाना चाहिए। जब बाहरी शोर हमें सुनना बंद हो जाएगा तभी हमें मन की आवाज़ सुनाई देगी. तत्पश्चात खेल, प्रेजेंटेशन और डिस्कशन के सत्र में सुश्री अलका गौरी जोशी, प्रान्त संगठक विवेकानंद केंद्र हरियाणा प्रान्त ने प्रतिभागियों के भीतर छिपी प्रतिभा और उर्जा को कैसे नियंत्रित किया जाए के बारे बखूबी प्रशिक्षण किया. इस सत्र में सोने के समय का ध्यान लगाने में कैसे उपयोग किया जाये, तरक्की और आध्यात्म में सामंजस्य कैसे स्थापित किया जाये, धर्म का अध्ययन कैसे हो, प्रश्न पूछने से पहले कैसे ज्ञान प्राप्त किया जाये, क्या ध्यान सिर्फ एकांत में ही संभव है जैसे कितने ही अलग-अलग विषयों पर सकोलर्स और प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को व्यवहारिक ज्ञान और प्रशिक्षण दिया गया. प्राणायाम, योग तथा स्वाध्याय का व्यावहारिक ज्ञान भी इसी सत्र में दिया गया। सुश्री अलका गौरी जोशी ध्यान लगाने की प्रक्रिया को भी स्वयं कर के समझाया।

अपने सारगर्भित और ओजस भाषण में श्री दशरथ चौहान, विभाग प्रमुख विवेकानंद केंद्र हरियाणा प्रान्त ने आज स्वामी विवेकानंद के जीवन, शिक्षाओं और महान विचारों पर आधारित कहानियां और रोचक एवं शिक्षापूर्ण घटनाएं प्रतिभागियों को सुनाई। इन कथाओं को सुनाने का तात्पर्य नौजवानों में नया जोश और प्रेरणा भरना था. हममे दान की प्रवृति को खुद में सैदेव रखना चाहिए. जीवन में रिश्तों कि भी बहुत अहमियत है. एकाग्रता रखने वाला व्यक्ति जीवन में कभी असफलता का मुख नहीं देखता. गुलाम रहने वाले लोगों का कोई धर्म नहीं होता. उन्होनें कहा की जब तक विवेकानंद की दी गई शिक्षा हमारे मन-मस्तिष्क में रच-बस नहीं जाती तब तक पारंपरिक शिक्षा ग्रहण करने का कोई औचित्य नहीं है। हमें अपनी इंद्रियों की लगाम को काबू में रखना आना चाहिए और ‘अहं’ को काबू रखना भी हमने ही सीखना है. कामनाओं और इच्छाओं को नियंत्रण में रख कर ही हम जीवन में सही निर्णय ले सकते है। जीवन में किसी ना किसी लक्ष्य को निर्धारित करना बहुत जरूरी है और फिर उन लक्ष्यों को पाने का तरीका भी उचित होना चाहिए. हमारे मन सैदेव सुविचार ही आने चाहिए। स्वामी विवेकानंद के विचारों में जीवन जीने की कला और शक्ति व्याप्त है। स्वामीजी को पढ़ने से खुद में शक्ति और आत्मविश्वास का नव संचार होता है। स्वामी विवेकानंद से बड़ा कोई पथ प्रदर्शक नहीं है। स्वामीजी कहते थे की यदि हमने परमपिता परमात्मा की सेवा करनी है तो पहले देश की सेवा करनी होगी. हर व्यक्ति में एक जैसा ही प्रकाश-पुंज मौजूद होता है, बस उसे पहचानना आना चाहिए. स्वामीजी ने इसी प्रकाश-पुंज कुंज को जानने में हमारी मदद की है। उन्होनें कहा की आज़ादी के सही मायने ज़िम्मेदारी के साथ आते है।

----------------------(आज सुनाई गई विवेकानंद कहानियां)------------------

विवेकानंद की कहानियां सुनते हुए श्री दशरथ चौहान ने प्रतिभागीओं को मन्त्र-मुग्ध कर दिया. एक बार स्वामी विवेकानंद के विदेशी मित्र ने उनके गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस से मिलने का आग्रह किया और कहा की वह उस महान व्यक्ति से मिलना चाहता है जिसने आप जैसे महान व्यक्तित्व का निर्माण किया. जब स्वामी विवेकानंद ने उस मित्र को अपने गुरु से मिलवाया तो वह मित्र, स्वामी रामकृष्ण परमहंस के पहनावे को देखकर आश्चर्यचकित हो गया और कहा – “यह व्यक्ति आपका गुरु कैसे हो सकता है, इनको तो कपड़े पहनने का भी ढंग नहीं है.” तो स्वामी विवेकानंद ने बड़ी विनम्रता से कहा – “मित्र आपके देश में चरित्र का निर्माण एक दर्जी करता है, लेकिन हमारे देश में चरित्र का निर्माण आचार-विचार करते है.”

श्री दशरथ चौहान ने एक और कहानी सुनाते हुए कहा की स्वामी विवेकानंद बचपन से ही निडर थे.
जब वह लगभग 8 साल के थे तभी से अपने एक मित्र के यहाँ खेलने जाया करते थे.उस मित्र के घर में एक चम्पक पेड़ लगा हुआ था.वह स्वामीजी का पसंदीदा पेड़ था और उन्हें उसपर लटक कर खेलना बहुत प्रिय था. रोज की तरह एक दिन वह उसी पेड़ को पकड़ कर झूल रहे थे की तभी मित्र के दादा जी उनके पास पहुंचे,उन्हें डर था कि कहीं स्वामीजी उस पर से गिर न जाए या कहीं पेड़ की डाल ही ना टूट जाए, इसलिए उन्होंने स्वामी जी को समझाते हुए कहा, “नरेन्द्र,तुम इस पेड़ से दूर रहो, और अब दुबारा इस पर मत चढना.”
“क्यों?” नरेन्द्र ने पूछा.
“क्योंकि इस पेड़ पर एक ब्रह्म्दैत्य रहता है.वो रात में सफ़ेद कपडे पहने घूमता है, और देखने में बड़ा ही भयानक है.” उत्तर आया.
नरेन्द्र को ये सब सुनकर थोडा अचरज हुआ, उसने दादा जी से दैत्य के बारे में और भी कुछ बताने का आग्रह किया.
दादा जी बोले, “वह पेड़ पर चढ़ने वाले लोगों की गर्दन तोड़ देता है.” नरेन्द्र ने ये सब ध्यान से सुना और बिना कुछ कहे आगे बढ़ गए . दादा जी भी मुस्कुराते हुए आगे बढ़ गए, उन्हें लगा कि बच्चा डर गया है. पर जैसे ही वे कुछ आगे बढे नरेन्द्र पुनः पेड़ पर चढ़ गया और डाल पर झूलने लगा.
यह देख मित्र जोर से चीखा, “अरे तुमने दादा जी की बात नहीं सुनी, वो दैत्य तुम्हारी गर्दन तोड़ देगा.”
बालक नरेन्द्र जोर से हंसा और बोला, “मित्र डरो मत! तुम भी कितने भोले हो! सिर्फ इसलिए कि किसी ने तुमसे कुछ कहा है. ऐसे कभी यकीन मत करो;खुद ही सोचो,अगर दादा जी की बात सच होती तो मेरी गर्दन कब की टूट चुकी होती.” इतने निडर और साहसी थे स्वामी विवेकानंद. ऐसे कितने ही किस्से आज श्री दशरथ चौहान ने प्रतिभागियों को सुनाये.

प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा ने अपने वक्तव्य में कहा की दुनिया में आज एक प्रकार की खंडता हो गई है और इंसान-इंसान से दूर हो गया है. स्वामी विवेकानंद के विचार इसी खण्डता के भावों को दूर करते है और लोगों में छुपी दिव्य ज्योति को उनसे रुबरु कराते है। जिन समस्याओं से आज हम जूझ रहे है यदि हम थोड़ा सा भी स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं एवं उनके विचारों को अपना ले तो ये समस्याएँ खुद-ब-खुद छू-मंतर हो जाएंगी।

इससे पहले माननीय मेहमानों का स्वागत एसडी पीजी कॉलेज प्रधान श्री दिनेश गोयल, प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा, डॉ रवि बाला और डॉ बाल किशन शर्मा ने किया. डॉ संगीता गुप्ता ने मंच का संचालन किया. प्रो यशोदा अग्रवाल ने आज प्रतिभागियो को विवेकानंद देश भक्ति गीत “धर्म के लिए जिए, समाज के लिए जिए; ये धड़कने ये सांस हो मात्रभूमि के लिए” गाकर सुनाया और सिखाया जिससे कोन्फेरेंस का माहौल देशभक्ति के भावो से औत-प्रौत हो गया।

इस अवसर पर कॉलेज के स्टाफ सदस्य डॉo सुरेन्द्र कुमार वर्मा, डॉo रवि बाला, डॉo राकेश गर्ग, प्रोo मयंक अरोड़ा, प्रोo इंदु पूनिया, प्रो यशोदा अग्रवाल, दीपक मित्तल आदि भी मौजूद रहे।

(प्राचार्य)
डॉ अनुपम अरोड़ा

Friday, March 17, 2017

VKNARDEP Newsletter

Wolfgang Sachs is an author and research director at the Wuppertal Institute for Climate, Environment and Energy, in Germany. He has been a member of the Intergovernmental Panel on Climate Change and is a member of the Club of Rome. He has edited immensely influential book “The Development Dictionary”. In this issue, we have given a few of his quotable quotes.
Shri.N.Krishnamoorthi covers the most important topic of ‘Biodiversity’ – the last in this series. The swan exhorts us by saying “Man is a part of nature and nature is an extension of man. The death of every animal severe man’s link with nature and cuts a stand in the grand web of existence. The loss of every plant makes man lonelier, exposed to greater and crueler risks of loneliness and death”. In happening section, we have covered training programmes in Bio-manure preparation, Growth promoters, Ferro-cement technology etc.
In the wisdom section, Prof.Dennis Pirages a co-chair of the board of ‘World Future Society’ highlights ‘Growing ecological insecurity’, David W.Inouye, Faculty - University of Maryland & President, American Ecological Society tells us that Biodiversity is at all levels a heritage and so should be preserved at any cost and finally the famous writer and a critic of western model of development Shri.Makarand Paranjpe describes how the entire American civilization is based on ‘Garbage making’. For reading the newsletter.

Talk on eve of women's day

Vivekananda Kendra Kanyakumari, Branch Chinchwad had organized a lecture on the eve of Womens day celebration on 10/03/2107 along with help of Arogyam Yog Center. Chief guest for this program was Mrs. Shital Kapshikar (Mahil Shahir - The powadas are a kind of ballad written in an exciting style and narrate historical events in an inspiring manner. The composer-cum-singers of the powadas are known as Shahirs.). Our Sanchalika Smt Aruna Marathe spoke about the Kendra activities carried out in Chinchwad area. Mrs. Shital Kapshikar spoke about Women empowerment through Powadas by giving examples of Savitribai Phule, Sunita Williams, Kalpna Chawla, Jijabai etc. Poeple from surrounding areas yoga students and ladies were present for this program. Around 70 ladies were present for the program.

Green Rameswaram Project Newsletter

The Nari Shakti Puraskar, instituted in 1999 is a way for us to recognize women who have exceeded expectations to challenge the status quo and make a lasting contribution to women’s empowerment. The Government of India confers these awards on individuals and institutions in recognition of their service to the cause of women. The outstanding contributions in the field of women development & upliftment by way of being role models are of primary consideration in identifying the recipients of Puraskar.
Kalpana Shankar, Chairperson of Hand in Hand India, an organisation working on women SHGs, livelihoods and child labour received this year’s Nari Shakti Award from President Shri.Pranab Mukherjee at Rashtrapati Bhavan in New Delhi, on Wednesday, 8th of March, 2017. Hand in Hand India is our partner in ‘Green Rameswaram’ project. We congratulate Dr.Kalpana Sankar for her achievements and for receiving the prestigious award.
This month has the following highlights:
Shri.Narendra Joshi in his series ‘Rameshwaram – The Anchor of Indian Renaissance’ writes about Puri Jaganath, 84 Kosi and Kashi – Rameshwaram Yatra
Dr.Ramarathnam of Basil Energetics, Chennai writes about the potential of Wind energy
Shri.Subramanian of C.P.R Environmental Educational Center writes about Nakshatra Vanam. This month he gives the details of Jyeshtha, (Tamil: Kettai)
In the water harvesting section, you can see the picture gallery of the revival of new Kumutha Traditional water body and finally work to build the Social Capital.

Friday, March 10, 2017

Active Learning Methodology workshops conducted in Assam

Active Learning Methodology Workshop is conducted Vivekananda Kendra Shiksha Prasar Vibhag in Vivekananda Kendra Vidyalaya Ramnagar, Silchar (16 to 18 February 2017) 31 Teachers (including 4 Principals) Participated from 5 Schools - VKV Ramnagar Silchar, Assam, VKV Borojalenga, Assam, VKV Badarpur, Assam, Subrai Vidya Mandir, Agartala, Tripura, Subrai Mission Convent School, Teliamara, Tripura] and Vivekananda Kendra Vidyalaya (NEEPCO) Umrangso (19 to 21 February 2017) 30 Teachers Participated from 5 Schools - VKV (NEEPCO) Umrangso, VKV Tumpreng, VV Jirikindeng, VKV Borojalenga, VKV Badarpur.

Smt. Sivakami Sundari Retd. Chief Education Officer, Tamilnadu and Sri Anbazhagan N. State Coordinator  for ICT (Information Communication Technology), Dept. of Education, Govt. of Tamildadu were the resourse persons.

ALM is a Learner Centric Study where teachers can enrich the learning capacity of students and it gives a divergent exposure to learners. Different steps of ALM were shared like Introduction, self reading, group/ guided reading , finding difficult words and getting its meaning in small groups and then in larger group i.e. the whole class, Mind Map, Consolidation, Reinforcement, Evaluation etc.

It’s an interactive class where all 40 students get opportunity to talk, discuss, share their views, teacher facilitates the whole process and guides the right direction

Subject wise different groups were made for different activities. After initial training, teachers from each subject group took classes following  ALM methodology initially among teachers and later for students in a normal class.

At VKV Ramnagar, Silchar: Dr Bibhash Deb, Former Director of College Development Council, Assam University Silchar was the special invitee. He congratulated School Authority and VKSPV for conducting  this kind of camp to uplift and sharpen the skill of teachers.

At VKV (NEEPCO) Umrangso: Sri Kanti Ranjan ..., Principal JB Hagjer College, Umrangso attended the concluding session. He emphasized on implementing such methodology in classrooms will be bring a lot change in the learning process and educational scenario as a whole.

Development should go hand in hand with culture

ROING, Mar 6: Vivekananda Kendra Arun Jyoti, Roing organized ‘Vimarsha’, a lecture session of Padmashree Nivedita Bhide, vice president of All India Vivekananda Kendra, Kanyakumari.

The programme was held at VKV, Roing on the topic ‘development through culture’.

On the occasion, Gingko Lingi, president of Idu Mishimi Culture & Literary Society, felicitated Nivedidta Bhide for being conferred with Padmashree award this year.

The session started with indigenous Idu Mishimi prayer by Hornbill school. After prayer, Nivedita enlightened the gathering on the topic.

“We need development but not at the cost of culture. Development is possible only when there are individual rights, individual freedom and growth of culture. Development alone cannot sustain for long,” she said adding “for a sustainable development, development should go hand in hand with culture. We shall feel proud of our own culture and be rooted to it.”

She further said: “Arunachal Pradesh is a land of rich culture and could become example for not only other Indian states but the whole world for development with culture.”

Jatan Pulu, member of General Body VKV, Arunachal Pradesh, presided over the programme.

Arunachal Pradesh Governor announced an Award in memories of Ma. Eknathaji Ranade

ITANAGAR, Mar 7: The Governor of Arunachal Pradesh PB Acharya has instituted awards in the names of eminent personalities for outstanding students of 14 government colleges of the state.

Accordingly, three best students in academics, sports and performing arts in each college will be given the awards every year.

The Governor said these awards will encourage the students towards academic excellence, sports and performing arts, and at the same time, it will also remind them of the eminent personalities, who have rendered their valuable services to the state and country.

The awards will be in the memory of Rajendra Prasad, Lal Bahardur Shastri, Vishnu Sahaya, Eknath Ranade, Colonel Luthra, R K Patir, KAA Raja, Daying Ering, Tomo Riba, Talom Rukbo, Lummer Dai, Indira Miri, Jikom Riba, C K Gohain Namchoom, Sobeng Tayeng, Indrajit Namchoom, Wangpha Lowang, Omem Deori, Nokmey Nimati, former Chief Minister Dorjee Khandu, Kuru Hassang, Tadar Tang, Nyari Welly, Kop Temi, Tagi Raja, Matmur Jamoh, Marto Kamdak, Jomin Tayeng, Bini Yanga, Saint Narottam, Muktinath Borthakur and Maj Bob Kathing.

An amount of Rs 1 lakh each will be kept in fixed deposit as corpus fund against each college and interest accrued each year will be used for that award, which will be in kind.

A certificate for each award winner will be given from the Raj Bhavan. The selection of the award winning students and other details will be worked out by the respective colleges and the Raj Bhavan.

On the same lines, an amount of one lakh will be kept in fixed deposit as corpus fund for the awards for children of Raj Bhavan staff to encourage academic, sports and performance excellence.

The Governor has also instituted awards for outstanding students of Puroik Community and an amount of Rs 2 lakhs has been kept in fixed deposit as corpus fund for the purpose.

(An award is instituted in the fond memories of Maa. Eknathji for his commendable contribution to Arunachal Pradesh).

Source: Arunachal Times

Activity Report of Vadodara Nagar 2016-17